Saturday, 16 July 2022

महाराष्ट्र में बालासाहेब की विरासत पर भाजपा की नजर, राज ठाकरे को मजबूत कर उद्धव को देगी झटका

महाराष्ट्र : मुंबई में उपमुख्यमंत्री और भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस की राज ठाकरे से मुलाकात को लेकर तमाम तरह की अटकलें लग रही हैं। इनमें उनके बेटे अमित ठाकरे को मंत्री बनाने का भी कयास रहा। हालांकि, महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शुक्रवार को मुंबई में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के अध्यक्ष राज ठाकरे ने खुद ही इसे इनकार दिया। उन्होंने कहा कि यह मुलाकात राजनीतिक नहीं थी। यहां दादर में स्थित ठाकरे के आवास में हुई बैठक ऐसे समय हुई है, जब मुंबई नगर निकाय के चुनाव होने वाले हैं और राज्य में एकनाथ शिंदे नीत सरकार में मंत्रिमंडल विस्तार होना है।


वहीं विशेषज्ञों का कहना है कि  महाराष्ट्र की राजनीति में बाल ठाकरे की विरासत को लेकर शिवसेना में मची रार में भाजपा मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के साथ मनसे नेता राज ठाकरे को भी मजबूत कर रही है। इससे उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना को और कमजोर किया जा सकेगा, साथ ही राज ठाकरे के जरिए बाल ठाकरे की विरासत को भी उद्धव के हाथ से निकाला जा सकता है। 


हालांकि, फडणवीस ने कहा कि उनके और राज ठाकरे के बीच मुलाकात केवल एक “शिष्टाचार” था और वह ठाकरे के स्वास्थ्य की जानकारी लेने गए थे। मनसे प्रमुख की पिछले महीने लीलावती अस्पताल में कूल्हे की सर्जरी हुई थी। बाद में भाजपा नेता ने कहा कि बैठक का कोई और अर्थ निकालने की जरूरत नहीं है। फडणवीस ने कहा, “महाराष्ट्र में राजनीतिक शिष्टाचार निभाने की संस्कृति है। वह बीमार थे और मैं उनसे मिलने गया था। इसमें राजनीतिक बात क्या है?” 


मनसे नेता बाला नंदगांवकर ने कहा कि वह और उनकी पार्टी के नेता नितिन सरदेसाई तथा संदीप देशपांडे दोनों नेताओं के साथ मौजूद थे, लेकिन बाद में फडणवीस और ठाकरे के बीच अलग से एक घंटे से ज्यादा बातचीत हुई। नंदगांवकर ने कहा, “फडणवीस और राज ठाकरे के बीच हमेशा से अच्छे संबंध रहे हैं। जब नई सरकार बनाने का प्रयास किया जा रहा था तब हमारी पार्टी ने ईमानदारी से उनकी (भाजपा) सहायता करने की कोशिश की।” 


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.