Wednesday, 20 July 2022

कोर्ट में शिंदे और ठाकरे गुट की याचिका पर सुनवाई, विधायकों के अयोग्यता का मामला

मुंबई: सुप्रीम कोर्ट में महाराष्ट्र (Maharashtra) मामले की अहम सुनवाई होनी है। उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे की तरफ से दायर याचिका पर विधायकों की अयोग्यता के मामले पर कोर्ट में सुनवाई होगी। इससे पहले  की सुनवाई ने कोर्ट ने विधानसभा स्पीकर को अयोग्यता नोटिस पर फैसला लेने से रोका था। कोर्ट ने कहा था कि जब तक मामले में कोर्ट की तरफ से कोई फैसला नहीं हो जाता है तब तक याचिका पर कोई सुनवाई नहीं करें।


क्या है मामला

बता दें कि महाराष्ट्र में सियासी ड्रामे के बीच डिप्टी स्पीकर ने 14 विधायकों को अयोग्यता का नोटिस दिया था। शिंदे गुट के 14 विधायकों ने महाराष्ट्र विधानसभा के स्पीकर की ओर से जारी अयोग्यता की नोटिस को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। इसी मामले पर सुनवाई होनी है।  


लोकसभा में शिंदे गुट के नेता को मान्यता

सुनवाई से पहले मंगलवार को एकनाथ शिंदे ने शिवसेना पर दावा ठोका था। वो 12 बागी सांसदों के साथ लोकसभा अध्यक्ष से मुलाकात करने के लिए पहुंचे थे। जिसके बाद लोकसभा स्पीकर ने उद्धव गुट को झटका देते हुए शिंदे गुट के नेता राहुल शेवाले को सदन के नेता माना था। वहीं, लोकसभा में शिवसेना सांसद भावना गवली को चीफ व्हिप के रूप में मान्यता दी गई है। बता दें कि विधायकों के बाद 12 सांसदों ने भी उद्धव ठाकरे के खिलाफ बगावत की है। 


क्या कहा संजय राउत ने

शिंदे गुट के इस फैसले पर संजय राउत ने कहा- ऐसी बातों पर ध्यान देना उचित नहीं है। उनके मन की अवस्था हम समझ सकते हैं। कानून हमारे साथ है, नियम हमारे साथ है। हमे देश के सर्वोच्च न्यायालय पर पूरा विश्वास है, देश का लोकतंत्र अभी मरा नहीं है। असली नकली का मामला ही नहीं है। शिवसेना बाला साहब ठाकरे जी की है। अब ये जो नकली वाले हैं हमसे टूटे हुए फूटे हुए लोग वो ये भी कह सकते हैं कि बाला साहब ठाकरे को हमने ही पार्टी में लाया था या उद्धव ठाकरे को हमने ही शिवसेना प्रमुख बनाया है। 


एकनाथ शिंदे ने की थी बगावत

बता दें कि महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे की बगावत के बाद उद्धव ठाकरे की सरकार गिर गई थी। सियासी ड्रामे बीजेपी के समर्थन से एकनाथ शिंदे राज्य के नए सीएम बने थे। उसके बाद अब उन्होंने शिवसेना पर भी दावा ठोक दिया है।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.