Wednesday, 20 July 2022

बाजार में लगातार चौथे दिन तेजी, सेंसेक्स 630 अंक और चढ़ा, निफ्टी 16,500 अंक के पार


मुंबई: घरेलू शेयर बाजार में तेजी का सिलसिला बुधवार को लगातार चौथे कारोबारी सत्र में जारी रहा और बीएसई सेंसेक्स करीब 630 अंक चढ़कर बंद हुआ, जबकि एनएसई निफ्टी 16,500 अंक के ऊपर पहुंच गया. वैश्विक बाजार में सकारात्मक रुख के बीच आईटी और ऊर्जा शेयरों में लिवाली से बाजार को समर्थन मिला. सूचकांक में मजबूत हिस्सेदारी रखने वाले रिलायंस इंडस्ट्रीज, इन्फोसिस और टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) के शेयरों में खरीदारी तथा विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) के पूंजी प्रवाह से भी धारणा मजबूत हुई. 


सरकार के पेट्रोल, डीजल और विमान ईंधन पर अप्रत्याशित लाभ कर घटाये जाने से तेल खोज और उत्पादन तथा रिफाइनरियों से संबंधित शेयरों में अच्छी मांग रही. रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर 2.47 प्रतिशत और ओएनजीसी का चार प्रतिशत चढ़ गया. तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 629.91 अंक यानी 1.15 प्रतिशत उछलकर 55,397.53 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान यह 862.64 अंक तक चढ़ गया था. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 180.30 अंक यानी 1.10 प्रतिशत मजबूत होकर 16,520.85 अंक पर बंद हुआ. सेंसेक्स के शेयरों में टेक महिंद्रा, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, एचसीएल टेक्नोलॉजीज, रिलायंस इंडस्ट्रीज, इन्फोसिस, भारतीय स्टेट बैंक, विप्रो और हिंदुस्तान यूनिलीवर प्रमुख रूप से लाभ में रहे. दूसरी तरफ, नुकसान में रहने वाले शेयरों में महिंद्रा एंड महिंद्रा, सन फार्मा, कोटक महिंद्रा बैंक और एशियन पेंट्स शामिल हैं. अमेरिकी शेयर बाजार में कल की तेजी के बाद एशिया के अन्य बाजारों में जापान का निक्की, दक्षिण कोरिया का कॉस्पी, चीन का शंघाई कंपोजिट और हांगकांग का हैंगसेंग लाभ में रहे. यूरोप के ज्यादातर प्रमुख बाजारों में भी शुरुआती कारोबार में तेजी का रुख था. जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी के विजयकुमार ने कहा, ‘‘जून के निचले स्तर 15,183 से निफ्टी में प्रतिशत प्रतिशत की तेजी अच्छी खबरों का नतीजा है. 


इन खबरों में अमेरिकी कंपनियों के वित्तीय परिणाम बेहतर रहने से वहां के बाजार में तेजी तथा एफपीआई (विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक) की बिकवाली के निचले स्तर तक पहुंचने की संभावना है. एफपीआई ने इस महीने पांच दिन लिवाली की. उन्होंने कहा कि इसके अलावा पेट्रोलियम क्षेत्र के लिये अप्रत्याशित लाभ कर तथा निर्यात शुल्क में कटौती की सरकार की घोषणा का भी सकारात्मक असर हुआ. इससे क्षेत्र को गति मिलेगी.’’अंतरराष्ट्रीय बाजार में दाम में नरमी के मद्देनजर सरकार ने बुधवार को पेट्रोल, डीजल और विमान ईंधन तथा कच्चे तेल पर अप्रत्याशित लाभ कर में कटौती की. इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 1.17 प्रतिशत की गिरावट के साथ 106.1 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार विदेशी संस्थागत निवेशक मंगलवार को शुद्ध लिवाल रहे. उन्होंने 976.40 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर खरीदे.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.