Saturday, 26 March 2022

मुश्किल में फंसे ‘द कश्मीर फाइल्स’ मूवी के निर्माता विवेक अग्निहोत्री, थाने में मामला दर्ज



'द कश्मीर फाइल्स' के डायरेक्टर विवेक रंजन अग्निहोत्री ने एक इंटरव्यू में भोपाल के लोगों को लेकर एक विवादास्पद टिप्पणी की थी। ऑप इंडिया वेबसाइट को दिए एक इंटरव्यू में विवेक अग्निहोत्री ने कहा था कि 'भोपाली' शब्द का मतलब होमोसेक्शुअल होता है। उनके इस बयान के बाद अब मुंबई में एंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट और भोपाल के रहने वाले रोहित पांडे ने मुंबई के वर्सोवा पुलिस स्टेशन में क्रिमिनल कंप्लेंट दर्ज करवाई है। इसमें उन्होंने भोपाल के लोगों को बदनाम करने के लिए विवेक रंजन अग्निहोत्री को अरेस्ट करने की मांग की है।

अपनी शिकायत में रोहित पांडे ने यह कहा...

  • मुंबई के अब वकील काशिफ खान देशमुख के माध्यम से दर्ज कंप्लेंट में रोहित पांडे ने कहा है कि प्रमोशन के नाम पर सस्ती कंट्रोवर्सी खड़ी कर विवेक अग्निहोत्री 'द कश्मीर फाइल्स' से और प्रॉफिट कमाना चाह रहे हैं।
  • पांडे ने यह भी आरोप लगाया है कि फिल्म ने 200 करोड़ से ज्यादा की कमाई की है, लेकिन अग्निहोत्री ने इसका एक भी पैसा विस्थापित कश्मीरी पंडितों पर खर्च नहीं किया है।
  • पांडे ने आगे कहा-भोपाल का होने के नाते मुझे उनके इंटरव्यू को देख शर्म आ रही है। भोपाल का होने के बावजूद उन्होंने पूरे मध्यप्रदेश को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बदनाम करने का काम किया है।
  • पांडे ने आगे अपनी शिकायत में कहा है कि अग्निहोत्री का अपने शब्दों पर कोई कंट्रोल नहीं है। वे सिर्फ समाज के लिए ही नहीं देश के लिए भी खतरनाक हैं।
  • सुप्रीम कोर्ट के एक केस का जिक्र करते हुए पांडे ने आगे कहा कि विवेक अग्निहोत्री के खिलाफ आईपीसी की धारा 153 (शांति भंग) के तहत FIR होनी चाहिए।

विवेक अग्निहोत्री ने यह कहा था
उन्होंने अपने इंटरव्यू में कहा, 'मैं भोपाल में पला बढ़ा हुआ हूं, लेकिन भोपाली नहीं हूं, क्योंकि उनका एक अलग अंदाज होता है, मैं कभी आपको अकेले में समझाऊंगा। आप चाहें तो कभी किसी भोपाली से पूछ सकते हैं। किसी को बोलो ये भोपाली है, इसका सिंपल सा मतलब है कि ये होमोसेक्शुअल है। मतलब नवाबी शौक वाला।'

बवाल मचने पर अग्निहोत्री की सफाई

हालांकि, इस बयान पर बवाल मचने के बाद उन्होंने सफाई दी। विवेक अग्निहोत्री ने कहा कि 'आज के भोपाली का मतलब विवेक अग्निहोत्री है।' उन्होंने कहा कि किसी चीज को काट-पीट कर पेश किया जा रहा है। यह इसलिए हो रहा है कि कुछ लोग कश्मीर का सच जनता तक नहीं पहुंचने देना चाहते हैं। मैं यही कहूंगा कि आज के भोपाली का मतलब है विवेक अग्निहोत्री।


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.