Wednesday, 23 March 2022

महाराष्ट्र: बीजेपी नेता किरीट सोमैया के निशाने पर अब आदित्य ठाकरे, पूछा- उद्धव ठाकरे परिवार का यह पहला घोटाला या…?


मंगलवार (22 मार्च) को ईडी (ED) ने महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) के साले श्रीधर पाटणकर (Shridhar Patankar) के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उनके ठाणे में स्थित 11 फ्लैट्स सील किए हैं. इनकी कीमत 6 करोड़ 45 लाख है. आरोप है कि फर्जी कंपनी के माध्यम से हवाला ऑपरेटर नंदकिशोर चतुर्वेदी (Nand Kishor Chaturvedi) ने पाटणकर को बिना शर्त और बिना कारण 30 करोड़ का कर्ज दिया. यह पैसा मनी लॉन्ड्रिंग (Money Laundering) करके जमा किया गया पैसा है. इसी घोटाले के पैसे को पाटणकर ने अपने प्रोजेक्ट्स में लगाया और उससे ये फ्लैट्स लिए. इस मुद्दे पर बीजेपी नेता और पूर्व सांसद किरीट सोमैया (Kirit Somaiya BJP) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. किरीट सोमैया ने अपनी पीसी में सवाल किया कि सीएम उद्धव ठाकरे और हवाला किंग नंदकिशोर चतुर्वेदी का संबंध क्या, ठाकरे परिवार खुद बताएगा या वो बताएं?

किरीट सोमैया ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘सीएम उद्धव ठाकरे की पत्नी रश्मि ठाकरे (Rashmi Thackeray) और बेटे आदित्य ठाकरे ने मिलकर 2014 मे एक कंपनी बनाई. कोमो स्टॉक एंड प्रॉपर्टीज नाम की इस कंपनी में 50-50 फीसदी शेयर मां और बेटे के थे. कंपनी के डायरेक्टर तेजस ठाकरे (आदित्य ठाकरे के भाई) थे. अब उस कंपनी का मालिक नंद किशोर चतुर्वेदी है. यही हवाला किंग नंदकिशोर चतुर्वेदी एक फर्जी कंपनी के माध्यम से सीएम के साले के अकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर रहा है. क्या यह बीएमसी की लूट और वसूली का पैसा साले के माध्यम से सीधे मुख्यमंत्री तक पहुंच रहा है? सीएम ठाकरे यह खुद बताएं कि उनका अपने साले के साथ सिर्फ पारिवारिक संबंध है या आर्थिक संबंध भी है? सीएम यह खुद बताएं कि हवाला किंग नंद किशोर चतुर्वेदी से उनका क्या संबंध है? किरीट सोमैया ने कहा कि यह पहला मामला नहीं है जिसमें मनी लॉन्ड्रिंग, हवाला और घोटाला में ठाकरे परिवार का संबंध सामने आ रहा है. 11 नवंबर 2020 को मैंने एक पीसी की थी उसमें मैने अन्वय नाइक और ठाकरे परिवार के बीच जमीन के लेन-देन के बारे में बताया था.’

‘सारे घोटाले खुल जाएं तो उद्धव ठाकरे की रात की नींद उड़ जाए’

किरीट सोमैया ने कहा, ‘ ठाकरे परिवार का यह पहला मनी लॉन्ड्रिंग का काम है कि इससे पहले भी ऐसे काम होते रहे हैं? मुख्यमंत्री के साले श्रीधर पाटणकर के कारनामों के सबूत पिछले डेढ़ साल से मैं ईडी को उपलब्ध करवा रहा हूं. मुंबई महानगरपालिका से जुड़े कॉन्ट्रैक्टरों से वसूल किए गए करोड़ो रुपए की संपत्ति उनके पास है. ईडी ने तो अभी सिर्फ एक आर्थिक लेन-देन पर कार्रवाई की है. इसी में 30 करोड़ की हेराफेरी सामने आई है. पिछले डेढ़ सालों में ईडी को करोड़ो रुपए लेनदेन की जानकारी दी गई है. अगर सारे मामले बाहर आए तो सीएम उद्धव ठाकरे की रातों की नींद उड़ जाएगी.’


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.