Friday, 18 February 2022

नारायण राणे VS शिवसेना:केंद्रीय मंत्री के जुहू वाले बंगले में अवैध निर्माण का आरोप, BMC ने जारी किया नोटिस


यह बंगला मुंबई के जुहू इलाके में समुद्र किनारे बना है। आरोप है कि इसे कोस्टल नियमों के खिलाफ बनाया गया है। - Dainik Bhaskar
यह बंगला मुंबई के जुहू इलाके में समुद्र किनारे बना है। आरोप है कि इसे कोस्टल नियमों के खिलाफ बनाया गया है।

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे और शिवसेना के बीच जारी राजनीतिक लड़ाई में एक नया मोड़ आया है। बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने राणे के जुहू स्थित बंगले में अवैध निर्माण का आरोप लगाते हुए जांच के लिए नोटिस जारी किया है। इसमें बंगले में अवैध निर्माण की आशंका जताते हुए इसका फिर से इंस्पेक्शन और मेजरमेंट करवाने की बात कही गई है। बता दें कि बीएमसी में शिवसेना की सत्ता है। इसलिए इस कार्रवाई को राजनीति से जोड़ कर देखा जा रहा है।

K-वेस्ट वार्ड (अंधेरी पश्चिम) के एक अधिकारी द्वारा जारी नोटिस गुरुवार को मुंबई नगर निगम (एमएमसी) अधिनियम, 1888 की धारा 488 के तहत नारायण राणे के घर के बाहर चिपकाया गया। इसमें कहा गया कि K-वेस्ट वार्ड और भवन प्रस्ताव विभाग की एक टीम शुक्रवार को जुहू तारा रोड स्थित 'अधिश बंगले' का दौरा करेंगी और बंगले का फिर से निरीक्षण कर अपनी रिपोर्ट देगी। नोटिस में भवन मालिक से बंगले का प्रपोजल प्लान, पास किया गया नक्शा और संबंधित दस्तावेज लेकर मौजूद रहने को भी कहा गया है।

RTI एक्टिविस्ट की शिकायत पर हो रही कार्रवाई
बीएमसी की कार्रवाई सूचना के अधिकार (आरटीआई) कार्यकर्ता संतोष दौंडकर की शिकायत के बाद की जा रही है। एक्टिविस्ट ने आरोप लगाया है कि बीएमसी ने बंगले के अवैध निर्माण के संबंध में उनकी पिछली शिकायतों पर कोई कार्रवाई नहीं की है। दौंडकर ने कहा कि कोस्टल कानूनों (सीआरजेड) का उल्लंघन कर इस बंगले का निर्माण करवाया गया है। कार्यकर्ताओं का आरोप है कि बंगला समुद्र के 50 मीटर के दायरे में बनाया गया है जो सीआरजेड नियमों का सबसे बड़ा उल्लंघन है।

संतोष दौंडकर ने कहा,'मैं 2017 से इस बंगले के खिलाफ शिकायत कर रहा हूं, लेकिन पिछले चार साल में बीएमसी कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। अब उम्मीद है कि अब इस पर बीएमसी सीरियस होकर कार्रवाई करेगी।"

तोड़ा जा सकता है पूरा बंगला: BMC
बीएमसी के अधिकारियों ने कहा कि बंगले के निरीक्षण के बाद अगर हमें अनधिकृत निर्माण का पता चलता है तो बंगले की वैधता साबित करने के लिए उन्हें एक निश्चित समय अवधि देते हुए एक और नोटिस जारी किया जाएगा। अगर वे कानूनी दस्तावेज उपलब्ध कराने में विफल रहते हैं तो इसे तोड़ने की कार्रवाई की जाएगी।"

उद्धव ठाकरे के खिलाफ लगातार हमलावर रहे हैं राणे
नारायण राणे और उनका पूरा परिवार पिछले कई सालों से सीएम उद्धव ठाकरे और शिवसेना के खिलाफ हमलावर रहा है। CM को लेकर अपशब्द कहने के आरोप में राणे को एक दिन की जेल की हवा भी खानी पड़ी थी। इसके आलवा केंद्रीय मंत्री राणे ने संजय राउत के खिलाफ भी हमला बोला था। ऐसे में इसे बीजेपी एक जवाबी कार्रवाई बता रही है।


SHARE THIS

Author:

Etiam at libero iaculis, mollis justo non, blandit augue. Vestibulum sit amet sodales est, a lacinia ex. Suspendisse vel enim sagittis, volutpat sem eget, condimentum sem.

0 coment rios: