Friday, 18 February 2022

Mumbai: बालाजी हॉस्पिटल ने पेश की इंसानियत की मिसाल




परहित सरिस धरम नहीं भाई
पर पीड़ा सम नहीं अधिमाई

बालाजी हॉस्पिटल सिर्फ लोंगो का इलाज ही नहीं करता है बल्कि एथा शक्ति जरूरत मंदो कि मदद करता है! जैसा कि कोरोना काल मे सैकड़ो लोंगो को राशन, दवा, भाड़ा, ट्रांसपोर्ट कि सुविधा देते हुए आप सबने देखा! इसी तरह का एक मामला जैसे ही संज्ञान मे आया तुरंत अपना सामाजिक समरसता का निर्वहन करते हुए मैंने उस बच्ची का कॉलेज का पूरा फी भरकर उसका एग्जाम मे बैठने कि व्यवस्था की!

मामला एक गरीब, मजबूर व लाचार बच्ची मिस समीदा सोनावाने का था! बात एक होनहार इंग्लिश मीडियम की बच्ची के ग्रेजुएशन का था! माँ बाप बीमार व बेरोजगार हैं, नात बात रिस्तेदार इस स्तिथि मे नहीं हैं की उसकी पढ़ाई करवाये! खुद समीदा सोनावाने नाबालिक होने के नाते कोई जॉब नहीं कर सकती! रहती है दिवा मे हिंदी, मराठी आता नहीं इंग्लिश के बच्चे मिलते नहीं की टूशन पढ़ाकर अपनी पढ़ाई कर सके! बात जनवरी के अंतिम सप्ताह की हैं किसी मरीज को देखने समीदा बालाजी हॉस्पिटल आई, मरीज गरीब था हमने उसकी मदद करके मन ही मन ख़ुश हो रहा था की आज के खाते मे एक पुण्य हुवा! उसी वक्त उसकी रिलेटिव ने हमें बताया की यह लड़की अल्फ़ा कॉलेज परेल दादर मे पढ़ती है बहुत मजबूर है व फी नहीं भरने की वजह से एग्जाम मे नहीं बैठ पायेगी!

14 फेब्रुअरी 22 को लास्ट डेट है फी भरने की! पहले तो हमने उसे ट्रेनिंग स्टाफ के रूप मे हॉस्पिटल बालाजी मे ट्रेनिंग के लिए रखा व कुछ सामाजिक मदद गारो के पास मदद के लिए भेजा!

पर काफ़ी भाग दौड़ के बाद भी किसी ने समीदा सोनावने की मदद नहीं की! फिर बिषम परिस्थिति व परेशानी की हालात मे भी हमने अपने पास से उसकी फी की व्यवस्था की!

यह मैसेज मै इसलिए लिख रहा हुँ ताकि सबल सक्षम लोग आगे आये और ऐसी सभी समीदा सोनावाने की मदद करें ताकि वे अपनी पढ़ाई लिखाई करके अपने माँ बाप का सहारा बने!

इच्छुक भाई समीदा सोनावने को बालाजी हॉस्पिटल के AC के जरिये मदद कर सकते है!

खाता का नाम : बालाजी हॉस्पिटल

बैंक : भारत बैंक

शाखा : दिवा

खाता संख्या : 009012100001231

आईएफएससी कोड : BCBM0000091

निवेदक : डॉ. परमिंदर पाण्डेय : 8779611886



SHARE THIS

Author:

Etiam at libero iaculis, mollis justo non, blandit augue. Vestibulum sit amet sodales est, a lacinia ex. Suspendisse vel enim sagittis, volutpat sem eget, condimentum sem.

0 coment rios: