Tuesday, 14 December 2021

मंत्री अजय मिश्र के बेटे ने ही किसानों को मारा:लखीमपुर हिंसा पर SIT का खुलासा, आशीष मिश्रा व उसके साथी जेल से कोर्ट लाए गए

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में हुई हिंसा को SIT ने सोची-समझी साजिश बताया है। SIT के जांच अधिकारी ने आरोपियों के खिलाफ धाराएं बढ़ाने के लिए कोर्ट में अर्जी दी है। कोर्ट ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा उर्फ मोनू समेत 14 आरोपियों को कोर्ट में तलब किया है। मंत्री के बेटे व उसके साथियों को जेल से लाकर लखीमपुर कोर्ट में पेश किया गया है। थोड़ी देर बाद कोर्ट एसआईटी के आवेदन पर सुनवाई करेगी।

माना जा रहा है कि कोर्ट SIT को इस मामले में धाराएं बढ़ाने की अनुमति दे सकता है। इसके बाद मंत्री के बेटे सहित बाकी आरोपियों पर हत्या और आपराधिक षड्यंत्र का मुकदमा चलेगा। मोनू के पिता अजय मिश्रा को जैसे ही बेटे पर धाराएं बढ़ाए जाने की खबर लगी, वे दोपहर 12 बजे जेल पहुंच गए। उन्होंने बेटे को ढांढस बंधाया। इस दौरान वे मीडिया के सवालों से बचते नजर आए। मोनू समेत हिंसा के सभी 14 आरोपियों को आज CGM कोर्ट में पेश होना था, लेकिन दोपहर तक कोई भी आरोपी कोर्ट नहीं पहुंचा।

SIT के जांच अधिकारी ने कोर्ट में ये आवेदन देकर आरोपियों पर हत्या का मुकदमा चलाने की अर्जी दी है।
SIT के जांच अधिकारी ने कोर्ट में ये आवेदन देकर आरोपियों पर हत्या का मुकदमा चलाने की अर्जी दी है।

गैर इरादतन हत्या की जगह हत्या की धारा जुड़ेगी
केंदीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा मोनू समेत 14 आरोपियों के विरुद्ध पहले धारा 279, 338, 304 ए के तहत मामला दर्ज किया गया था। जांच के बाद SIT ने इसे सोची-समझी साजिश बताया। अब जांच एजेंसी ने धारा 307, 326,302,34,120B,147,148,149,3/25/30 के तहत मुकदमा चलाने के लिए कोर्ट में अर्जी दी है।

लखीमपुर में हिंसा का मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी का बेटा है।
लखीमपुर में हिंसा का मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी का बेटा है।

सुप्रीम कोर्ट में हो चुकी है तीन बार सुनवाई
लखीमपुर हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट ने भी संज्ञान लिया था। अक्टूबर से लेकर अब तक तीन बार सुनवाई भी हो चुकी थी। सुप्रीम कोर्ट ने SIT को धीमी जांच के लिए फटकारा था। अब कोर्ट में SIT को जांच प्रगति की रिपोर्ट दाखिल करनी है।

पुलिस हिरासत में आरोपी सुमित जायसवाल मोदी, सत्यम त्रिपाठी, नंदन सिंह और शिशुपाल।
पुलिस हिरासत में आरोपी सुमित जायसवाल मोदी, सत्यम त्रिपाठी, नंदन सिंह और शिशुपाल।

लखीमपुर में 3 अक्टूबर को भड़की थी हिंसा
लखीमपुर में 3 अक्टूबर (रविवार) को किसानों ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा का विरोध करते हुए काले झंडे दिखाए थे। इसी दौरान एक गाड़ी ने किसानों को कुचल दिया था। इसमें चार किसानों की मौत हो गई थी। इसके बाद हिंसा भड़क गई थी। भड़की हिंसा के दौरान एक पत्रकार समेत 4 अन्य की भी मौत हुई थी। इस मामले में उनके बेटे आशीष मिश्रा समेत 14 लोगों के खिलाफ हत्या और आपराधिक साजिश का केस दर्ज किया गया था।


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.