Wednesday, 1 December 2021

महाराष्ट्र में 'एट रिस्क' देशों से आने वाले यात्रियों को 7 दिन का क्वारैंटाइन जरूरी, खर्च भी यात्री उठाएंगे

 




ओमिक्रॉन के खतरे के चलते महाराष्ट्र सरकार ने सख्ती शुरू कर दी है। अब 'एट रिस्क' यानी खतरे वाले देशों से आने वाले सभी यात्रियों को 7 दिन का इंस्टीट्यूशनल क्वारैंटाइन पूरा करना होगा। सूत्रों के मुताबिक मुंबई आने वाले ऐसे सभी यात्रियों को आज से ही कंपलसरी आइसोलेशन फेसिलिटी में भेजा जाएगा। इसके लिए प्रशासन ने कुछ होटलों का चुनाव किया है। इनमें आइसोलेशन पीरियड का खर्च पैसेंजर को खुद ही उठाना होगा। हालांकि, इसके चलते कुछ पैसेंजर्स को परेशानी भी हुई, क्योंकि उड़ान भरने के समय उन्हें इस नियम की जानकारी नहीं थी। साथ ही 7 दिन के क्वारैंटाइन के लिए भुगतान करने के बारे में भी पता नहीं था।

इधर, खतरे वाले देशों के अलावा सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को अनिवार्य तौर पर RT-PCR टेस्ट कराना होगा। निगेटिव पाए जाने पर उन्हें घर जाने की इजाजत होगी, लेकिन वहां भी अगले 7 दिन तक उनकी निगरानी की जाएगी। महाराष्ट्र में देश के बाकी राज्यों से आने वाले यात्रियों को भी 48 घंटे पहले की RT-PCR निगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी।


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.