Thursday, 23 September 2021

Narendra Giri Death: महंत नरेंद्र गिरि की मौत के ठीक बाद का वीडियो सामने आया, जमीन पर था शव और जिस पंखे पर लटक कर फांसी लगाई वो चल रहा था

महंत नरेंद्र गिरि की मौत के बाद का एक वीडियो सामने आया है. वीडियो को लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं. वीडियो में देखा जा सकता है कि महंत नरेंद्र गिरि का शव जमीन पर है और पंखा चल रहा है. अब इसे लेकर कई सवाल उठ रहे हैं.

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की मौत एक नया खुलासा हुआ है. अब उस कमरे का वीडियो सामने आया है, जहां नरेंद्र गिरिर का शव लटका हुआ मिला था. वीडियो उस समय का है जब पुलिस कमरे में पहुंची थी. वीडियो में देखा जा सकता है कि नरेंद्र गिरि का शव जमीन पर है और पंखा चल रहा है. इसे लेकर अब कई सवाल खड़े हो रहे हैं.

वीडियो में पुलिस अधिकारी मठ में मौजूद शिष्यों से पूछताछ कर रहे हैं. जब कमरे में पुलिस पहुंचती है तो महंत नरेंद्र गिरि का शव जमीन पर था और उनके पास ही बलबीर गिरि खड़े हैं. इसी के साथ कमरे में पुलिस खड़ी है.

पंखे की रॉड जिसमें फंसी होती है, इसी में पीले रंग की नॉयलॉन की रस्सी का एक हिस्सा फंसा हुआ नजर आ रहा है. इससे रस्सी ने बनाए फंदे से महंत का शव लटका मिला था. वहीं नरेंद्र गिरि के गले में भी रस्सी का एक टुकड़ा भी फंसा दिखाई दे रहा है.

वीडियो में आईजी केपी सिंह भी दिखाई दे रहे हैं. जो मठ में मौजूद शिष्यों से पूछताछ कर रहे थे. उन्होंने पंखे को लेकर भी सवाल किया. इस पर वहां खड़े सुमित ने बताया कि उसी ने पंखा चलाया था. केपी सिंह ने कहा कि तुम्हें नीचे नहीं उतारना चाहिए था. वीडियो में रस्सी के तीन हिस्से दिखाई पड़ते हैं. इसे लेकर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं. रस्सी का एक हिस्सा पंखे में फंसा है. दूसरा महंत नरेंद्र गिरि के गले था और तीसरा हिस्सा शीशे की मेज पर ही रखा था.
सुसाइड नोट में हुआ खुलासा

प्रयागराज के बाघंबरी मठ के कमरे में महंत नरेंद्र गिरि की मौत हुई थी. उनका शव पंखे से लटका हुआ मिला था. साथ ही कमरे में एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ था. बुधवार को महंत नरेंद्र को भू-समाधि दी गई है. सुसाइड नोट के आधार पर आनंद गिरि, आद्या तिवारी और अन्य को पुलिस ने गिफ्तार कर लिया है. प्रयागराज पुलिस मामले में अलग-अलग लोगों से पूछताछ कर रही है. महंत नरेंद्र गिरि के गनर्स से भी पूछताछ की गई. मौते के समय वो कहा थे, ये भी बड़ा प्रश्न है. मठ में मौजूद लोगों से भी पूछताछ की जा रही है.

महंत नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड नोट में आनंद गिरि पर मानसिक प्रताड़ना के आरोप लगाए थे. इसी वजह से नरेंद्र गिरि की मौत को लेकर कई सारे सवाल खड़े हो रहे हैं. कई संतों ने इस बात को कहा कि ये साजिश है और हत्या है, नरेंद्र गिरि आत्महत्या नहीं कर सकते थे. सरकार ने मामले में पहले एसआईटी बनाई थी. लेकिन अब राज्य सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की है. संतों के द्वारा लगातार इसकी मांग उठ रही थी कि सीबीआई को जांच सौंपी जानी चाहिए.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.