कुश्ती में मिली चांदी: टोक्यो ओलिंपिक में भारत को दूसरा SILVER , गोल्ड मेडल मुकाबले में रवि दहिया रूसी पहलवान से हारे

 कुश्ती के अखाड़े में रवि दहिया से गोल्ड मेडल की उम्मीद खत्म हो गई है। 57 किलोग्राम वेट कैटेगरी के फाइनल में रवि 2 बार के वर्ल्ड चैंपियन रूस के जावुर युगुऐव से हार गए हैं। हालांकि, रवि सिल्वर मेडल लेकर ही भारत लौटेंगे। युगुऐव ने उन्हें 3 पॉइंट से मात दी।

रवि ने कुश्ती के सेमीफाइनल में कजाकिस्तान के सनायेव नूरीस्लाम को हराकर फाइनल में प्रवेश किया। रवि को ये जीत विक्ट्री बाय फॉल नियम से मिली थी यानी उन्होंने नूरीस्लाम को मुकाबले से ही बाहर कर दिया था।

रवि और युगुऐव दोनों शानदार फॉर्म में
रवि और युगुऐव दोनों इस वक्त शानदार फॉर्म में हैं। दोनों इससे पहले 2019 वर्ल्ड चैंपियनशिप में भिड़ चुके हैं। तब रूसी रेसलर ने भारतीय पहलवान को कड़े मुकाबले में 6-4 से हराया था। रवि को इस चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल मिला था। रवि ने 2020 और 2021 एशियन चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीता था। वहीं 2018 अंडर-23 चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल अपने नाम किया था।

सेमीफाइनल मैच के दौरान भारत के रवि दहिया।
सेमीफाइनल मैच के दौरान भारत के रवि दहिया।

युगुऐव रूस के बेस्ट रेसलर
दूसरी वरीयता प्राप्त युगुऐव 2018 और 2019 वर्ल्ड चैंपियनशिप जीत चुके हैं। वे रूस से आने वाले बेस्ट रेसलर्स हैं। उन्होंने अब तक करियर में 15 इंटरनेशनल कॉम्पिटिशन में 14 मेडल जीते हैं। इसमें से 12 गोल्ड मेडल हैं। हालांकि टोक्यो ओलिंपिक में उन्हें कुछ मुश्किल मैचों का सामना करना पड़ा है। सेमीफाइनल में उन्होंने ईरान के रेजा अत्रिनाघारचिनी को आसानी से हराया था।

रवि ने सेमीफाइनल में शानदार जीत हासिल की
चौथी वरीयता प्राप्त रवि दहिया ने सेमीफाइनल में कजाकिस्तान के नूरीस्लाम को चित करके मुकाबला जीता। सेमीफाइनल में रवि एक समय 8 पॉइंट से पीछे चल रहे थे। लगा कि वे हार जाएंगे, लेकिन 1 मिनट बाकी रहते रवि ने कजाक पहलवान को चित किया और मुकाबले से ही बाहर कर दिया। उन्हें विक्ट्री बाय फॉल रूल से विजेता करार दिया गया।

रवि ने सेमीफाइनल में कजाकिस्तान के पहलवान को चित कर दिया।
रवि ने सेमीफाइनल में कजाकिस्तान के पहलवान को चित कर दिया।

रवि ने टोक्यो में भारत का चौथा मेडल पक्का किया
रवि ने टोक्यो ओलिंपिक में भारत के लिए चौथा मेडल पक्का कर दिया है। उनके अलावा मीराबाई चानू ने वेटलिफ्टिंग में सिल्वर, पीवी सिंधु ने बैडमिंटन में ब्रॉन्ज और लवलिना बोरगोहेन ने बॉक्सिंग में ब्रॉन्ज मेडल जीता है। यह 2012 लंदन ओलिंपिक के बाद भारत का दूसरा सबसे सफल ओलिंपिक बन गया है। रवि पहलवान सुशील कुमार के बाद कुश्ती के फाइनल में पहुंचने वाले दूसरे भारतीय हैं।

कुश्ती में भारत को अब तक 5 ओलिंपिक मेडल
पहलवान सुशील ने भारत के लिए ओलिंपिक में लगातार दो मेडल जीतने का रिकॉर्ड बनाया था। सुशील ने 2008 बीजिंग ओलिंपिक में ब्रॉन्ज और 2012 लंदन ओलिंपिक में सिल्वर मेडल जीता था। रवि से पहले भारत ने कुश्ती में 5 मेडल जीते हैं। सुशील के अलावा योगेश्वर दत्त ने 2012 में ब्रॉन्ज, साक्षी मलिक ने 2016 रियो ओलिंपिक में ब्रॉन्ज जीता था। केडी जाधव भारत के लिए ओलिंपिक रेसलिंग में मेडल जीतने वाले पहले रेसलर थे। उन्होंने 1952 हेलसिंकी ओलिंपिक में यह कारनामा किया था।


Post a Comment

[blogger]

hindmata mirror

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget