Sunday, 25 July 2021

बाबा त्रिकालदर्शी ने mumbai के बिल्डर से ठगे 9 करोड़!, ऐसे फंसाया जाल में


उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में मुंबई की नेचुरल बिल्डर्स प्राइवेट लिमिटेड के मालिक दीपक शर्मा के साथ ठगी का मामला सामने आया है. बांदा में खनन का सरकारी ठेका दिलाने के नाम पर उनसे 9 करोड़ 39 लाख रुपए जालसाजों ने ठग लिए. इस सिलसिले में दीपक शर्मा ने लखनऊ के विभूतिखंड थाने में 5 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है.
दरअसल साल 2018 में मुंबई की एक पार्टी में दीपक शर्मा की मुलाकात लखनऊ के आनंद कुमार सिंह उर्फ बाबा त्रिकालदर्शी से हुई. बातचीत के दौरान आनंद सिंह ने दीपक शर्मा को बांदा में बालू खनन में अच्छी कमाई का झांसा दिया. सरकारी ठेके से करोड़ों कमाने का प्लान बताया. दीपक शर्मा को भी लगा कि उत्तर प्रदेश में खनन से करोड़ों कमाए जा सकते हैं.

बाजार और सरकारी व्यवस्था को समझने के लिए दीपक शर्मा अपने करीबी अजय सिंह के साथ कई बार लखनऊ आए और बांदा भी गए. मुलाकात के दौरान आनंद सिंह उर्फ बाबा त्रिकालदर्शी ने खुद को सत्ता का बेहद ताकतवर और करीबी बताया. आनंद सिंह ने दीपक की मुलाकात राजीव लोचन पालीवाल, नवनीत सिंह भदौरिया और विजयपाल से करवाई.
दीपक शर्मा को बताया कि बांदा में रेत खनन के लिए एक सरकारी ठेका निकला है. ठेका दिलाने के नाम पर पहले दीपक शर्मा से 1 करोड़ 60 लाख रुपए एडवांस के नाम पर आरोपियों ने लिया, फिर कुछ दस्तावेजों पर दस्तखत कराए. पीड़ित दीपक शर्मा का आरोप है कि फर्जी दस्तावेजों को सरकारी दस्तावेज बताकर इन लोगों ने दस्तखत करवा लिया और पैसा हड़प लिया.
पैसा हड़पने के बाद यह ठेका दीपक शर्मा की फर्म नेचुरल बिल्डर्स प्राइवेट लिमिटेड को मिलने की जगह, आनंद सिंह ने विजयपाल की फर्म बीपी कंस्ट्रक्शन को दिलवा दिया. जब दीपक शर्मा ने आपत्ति की तो उन्हें 68 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ पार्टनर बनाने का समझौता पेश कर दिया. इसके बाद बाकी पैसे भी हड़प लिए गए. ठगे जाने के बाद दीपक शर्मा ने लखनऊ के विभूतिखंड थाने में एफआईआर दर्ज कराई है.
दीपक शर्मा ने आरोप लगाया है कि आनंद सिंह उर्फ बाबा त्रिकालदर्शी, राजीव लोचन पालीवाल, नवनीत सिंह भदौरिया और विजयपाल ने पहले ठेका दिलाने के नाम पर उससे पैसे हड़पे, फिर फर्म में उसकी हिस्सेदारी का पैसा भी हड़प लिया. अपने एफआईआर में दीपक शर्मा ने कुल 9 करोड़ 39 लाख की ठगी का जिक्र किया है.






Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.