Thursday, 15 July 2021

3 महीने की बच्ची के हत्या मामले में खौफनाक खुलासा: गिरफ्तार आरोपी नहीं था किन्नर, बच्ची को मारने से पहले एक साथ संग मिल किया था दुष्कर्म





पिछले सप्ताह एक किन्नर और उसके साथी द्वारा 3 महीन की बच्ची की हत्या के मामले में एक नया खुलासा हुआ है। पुलिस जांच और पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सामने आया है कि हत्या का आरोपी किन्नर नहीं था, बल्कि किन्नर के वेश में उनके साथ रह रहा था। जांच में यह भी सामने आया है कि बच्ची को मारने से पहले दोनों ने उसके साथ दुष्कर्म भी किया था। पहले पुलिस ने यह थ्योरी दी थी कि नेग(तोहफे) में पैसे नहीं मिलने से नाराज किन्नरों ने बच्ची की अपहरण किया और फिर उसकी हत्या कर दी थी।

मुंबई पुलिस के मुताबिक, कफ परेड इलाके में 9 जुलाई को हुई इस वारदात और नए खुलासे के बाद अब बच्ची के परिवार ने आरोपियों को फांसी देने की मांग की है। गुरुवार को पुलिस ने इस मामले में अपहरण और हत्या के साथ सामूहिक दुष्कर्म की भी धाराएं जोड़ दी हैं।

दो आरोपियों की हुई है गिरफ्तारी
मामले में पुलिस ने कन्नू उर्फ कन्हैया चौगुले और सोनू काले नाम के दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। दरअसल कन्हैया किन्नर का रूप बनाकर बीते गुरुवार परिवार के पास बच्ची के जन्म के नेग के रूप में साड़ी, 11 सौ रुपए और नारियल मांगने पहुंचा था। बच्ची के परिवार ने उसके नामकरण पर तोहफा देने की बात कही। लेकिन कन्हैया इससे नाराज हो गया। विवाद के बाद वह चला गया लेकिन देर रात जब बच्ची का परिवार सो रहा था। उसने अपने दोस्त के साथ चोरी छिपे घर में दाखिल होकर तीन महीने की बच्ची को अगवा कर लिया था।

CCTV के आधार पर हुई आरोपियों की गिरफ्तारी
बच्ची के परिवार वालों ने जब उसे नहीं देखा तो मामले की शिकायत पुलिस से की। सीसीटीवी और परिवार से मिली जानकारी के आधार पर पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया तो दोनों ने बच्ची की हत्या कर शव समंदर किनारे दलदल में फेंकने की बात स्वीकार की। इसके बाद पुलिस ने बच्ची का शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा तो खुलासा हुआ कि बच्ची के निजी अंगों में चोट के निशान हैं और हत्या से पहले उसके साथ दुष्कर्म किया गया है।

सीनियर इंस्पेक्टर राजकुमार डोंगरे ने बताया कि मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद एफआईआर में आरोपियों के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म की भी धाराएं जोड़ दी गईं हैं।


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.