Sunday, 13 June 2021

दिलचस्प होता जा रहा है ulhasnagar महानगरपालिका के स्टैंडिंग चेयरमैन का चुनाव



  • शिवसेना और बीजेपी में होगी कड़ी टक्कर
  • हाईकोर्ट के आदेश पर 16 जून को होने वाला है चुनाव

उल्हासनगर महानगरपालिका के स्टैंडिंग चेयरमैन का चुनाव दिलचस्प होता जा रहा है। कुल 16 सदस्यों वाली स्टैंडिंग कमेटी में जो पक्ष 9 वोट लेगा उस पक्ष का चेयरमैन बनेगा।  फिलहाल शिवसेना के पास 7 और बीजेपी के पास 9 का आंकड़ा बताया जा रहा है।
शिवसेना की तरफ से मत कम होने के चलते फाइनल नहीं हो पाया है पर सेना की तरफ से उड़ती जानकारी के अनुसार नगरसेवक बिट्टू का नाम मिल रहा है। वहीं  बीजेपी की तरफ से साईं पार्टी के, जो अब बीजेपी में विलीन हुई है, उनकी तरफ से टोनी साईं उर्फ दीपक सिरवानी को मैदान में उतारा गया है और उनकी जीत निश्चित बताई जा रही है क्योंकि बीजेपी को सहयोगी दल आरपीआई का भी समर्थन मिलने की संभावना है। याद हो की पिछले चुनाव में गणित कम होते हुए भी सेना ने बीजेपी के लोगों को तोड़कर अपना चेयरमैन बनाया था मगर अब बीजेपी अलर्ट पर है।  कल देर रात अचानक उल्हासनगर -1 के पूर्व बीजेपी नगरसेवक के घर उल्हासनगर पुलिस के साथ एक बाहर की पुलिस की टीम ने भी दबिश दी जिसका पहले से ही पूर्व नगरसेवक को पता चल गया और वह नौ दो ग्यारह हो गया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यह नगरसेवक अपोजित साइट के वोटर्स को पैसे का लालच दे रहा था जिसका राजफ़ांस हो गया। जिसके बाद पुलिस को उसको पकड़ने को भेज दिया गया मगर सेना की तरफ से यह जानकारी मिल रही है कि उनको खुद के पार्टी के एक नेता पैसे के लेनदेन के चलते नाराज हो गया और उसने उक्त नगरसेवक के घर पर पत्थरबाजी कर दी और उसको सुरक्षा के लिए पुलिस भेजी गई। मामला चाहे जो कोई भी हो, पर पेशे से भू-माफिया पूर्व शातिर नगरसेवक पहले अंडर ग्राउंड हो गया। फिलहाल जो भी हो इलेक्शन सेना के नेता और बीजेपी के पूर्व सीएम की इज्जत का सवाल बन गया। एक तरफ पूर्व सीएम ने सख्त आदेश दिया है कि अगर इस बार जिसने गद्दारी की या कोई क्रॉस वोट किया तो उसकी पार्टी से निकाला जाएगा और उल्हासनगर बीजेपी के लिए मेरे घर का दरवाजा हमेशा के लिए बंद हो जाएगा।  इस डर की वजह से उल्हासनगर बीजेपी जो 4-4 गुट बनाकर घूमती है, वह आज एक हो गई है। साथ ही सभी को एक सुरक्षित स्थान पर ले कर रखा गया है।  अब देखते हैं 16 जून को क्या फैसला आता है। 

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.