Wednesday, 26 May 2021

मुंबई को जल्द 1 करोड़ वैक्सीन:ग्लोबल टेंडर में 7 कंपनियों ने स्पूतनिक और 1 ने फायाजर के लिए भरा टेंडर; 1 जून तक टेंडर फाइल करने की डेट बढ़ी

 

फिल्हाम मुंबई में वैक्सीन की कमी के चलते हर दिन कहीं न कहीं वैक्सीनेशन रोकना पड़ता है। - Dainik Bhaskar
फिल्हाम मुंबई में वैक्सीन की कमी के चलते हर दिन कहीं न कहीं वैक्सीनेशन रोकना पड़ता है।

महाराष्ट्र सरकार के कोरोना वैक्सीन के 5 करोड़ डोज के ग्लोबल टेंडर को अभी तक कोई रिस्पांस नहीं मिला है। इसके विपरीत मुंबई महानगर पालिका (BMC) के एक करोड़ कोविड वैक्सीन के ग्लोबल टेंडर को कुल 8 सप्लायर ने रिस्पांस दिया है। हालांकि, फिर एक बार टेंडर को फाइल करने की आखिरी तारीख को 1 जून तक बढ़ा दिया गया है। पहले 25 तारीख तक टेंडर फाइल करना था।

मुंबई महानगर पालिका के आयुक्त इकबाल सिंह चहल ने बताया कि जिन 8 वैक्सीन सप्लायर ने वैक्सीन सप्लाई करने की इच्छा जताई है, उसमें से 7 ने स्पूतनिक और एक ने फाइजर वैक्सीन आपूर्ति करने की इच्छा व्यक्त की है।

गौरतलब है कि मुंबई मनपा ने 12 मई को ग्लोबल टेंडर जारी किया था। तब 18 मई तक 5 वैक्सीन सप्लायर ने रिस्पांस दिया था। इन वैक्सीन सप्लयार को कानूनी दस्तावेजों की प्रक्रिया पूरी करने के लिए 25 मई तक का वक्त दिया गया था। अब मंगलवार को तीन नए वैक्सीन सप्लायर ने मुंबई मनपा के टेंडर में रुचि दिखाई है।

वैक्सीन सप्लायरों से इन चार मुद्दों पर हो रहा मोलभाव
मुंबई मनपा के ग्लोबर टेंडर को रिस्पांस देने वाले वैक्सीन सप्लायरों से मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चहल के मार्गदर्शन में अतिरिक्त मनपा आयुक्त (प्रकल्प) पी. वेलरासू, उप आयुक्त (विशेष) संजोग कबरे और सहकर्मी अधिकारी कानूनी प्रक्रिया करने का काम कर रहे हैं। सभी सप्लायर की दस्तावेजों की बारीकी से जांच-पड़ताल कर उनसे वैक्सीन के रेट पर मोलभाव किया जा रहा है।

मनपा आयुक्त चहल ने बताया कि वैक्सीन बनाने वाली कंपनी और उसे सप्लायर करने की इच्छुक कंपनी के बीच के व्यवसायिक संबंधों की जांच पड़ताल हो रही है ताकि दिए गए निर्धारित समय सीमा में वैक्सीन की आपूर्ति हो सकती है या नहीं? इसकी जानकारी मिल सके। इसके साथ ही वैक्सीन कितने दिनों में आपूर्ति होगी, कितनी वैक्सीन सप्लाई की जाएगी, वैक्सीन का दाम कितना होगा और भुगतान के नियम व शर्तें क्या होंगी? इन महत्वपूर्ण पहलू पर अत्यंत बारीकी से समीक्षा हो रही है।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.