Thursday, 15 April 2021

मुश्किल में RELIANCE ने दी मदद: मुकेश अंबानी की कंपनी ने गुजरात से महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की सप्लाई शुरू की, इसके लिए कंपनी पैसा नहीं ले रही

 

पेट्रोलियम रिफायनरी से मिलने वाली ऑक्सीजन का सीमित हिस्सा ही हेल्थ सेक्टर में उपयोग किया जा सकता है। (फाइल -मुकेश अंबानी) - Dainik Bhaskar
पेट्रोलियम रिफायनरी से मिलने वाली ऑक्सीजन का सीमित हिस्सा ही हेल्थ सेक्टर में उपयोग किया जा सकता है। (फाइल -मुकेश अंबानी)

मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस ने महाराष्ट्र में कोविड-19 से पैदा हो रहे भयावह हालात में मदद का हाथ आगे बढ़ाया है। राज्य के कई अस्पतालों में ऑक्सीजन की शॉर्टेज है। अब रिलायंस की जामनगर (गुजरात) रिफाइनरी से ऑक्सीजन की सप्लाई शुरू की गई है।

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी यह ऑक्सीजन सप्लाई मुफ्त कर रही है। महाराष्ट्र इस वक्त संक्रमण के मामले में अव्वल है। मुंबई, पुणे और नागपुर समेत ज्यादातर शहरों में हर दिन मामले बढ़ते जा रहे हैं। मुकेश अंबानी खुद मुंबई में ही रहते हैं।

रिलायंस अपने प्लांट पर इस्तेमाल होने वाली ऑक्सीजन को मेडिकल यूज के लिए तैयार कर रही है।
रिलायंस अपने प्लांट पर इस्तेमाल होने वाली ऑक्सीजन को मेडिकल यूज के लिए तैयार कर रही है।

कंपनी ने कोई जानकारी नहीं दी
रिलायंस इंडस्ट्रीज के एक अफसर ने जामनगर से ऑक्सीजन सप्लाई शुरू किए जाने की बात स्वीकार की। इस अफसर ने कंपनी की पॉलिसी के तहत नाम बताने से इनकार कर दिया। महाराष्ट्र के शहरी विकास मंत्री एकनाथ शिंदे ने सोशल मीडिया पर रिलायंस से 100 टन ऑक्सीजन मिलने की जानकारी दी है। महाराष्ट्र ही नहीं देश के कई और राज्यों में ऑक्सीजन की डिमांड और सप्लाई में भारी अंतर है। कई जगहों से इस तरह की खबरें आई हैं कि ऑक्सीजन की कमी के चलते कई मरीजों ने दम तोड़ दिया।

महाराष्ट्र के शहरी विकास मंत्री एकनाथ शिंदे ने सोशल मीडिया पर कहा कि रिलायंस के जामनगर प्लांट से महाराष्ट्र को 100 टन ऑक्सीजन दी जा रही है।
महाराष्ट्र के शहरी विकास मंत्री एकनाथ शिंदे ने सोशल मीडिया पर कहा कि रिलायंस के जामनगर प्लांट से महाराष्ट्र को 100 टन ऑक्सीजन दी जा रही है।

रिलायंस का हेडक्वॉर्टर मुंबई में ही
मुकेश अंबानी मुंबई में ही रहते हैं और रिलायंस इंडस्ट्रीज का हेडक्वॉर्टर भी मुंबई में ही है। जामनगर में रिलायंस का पेट्रोलियम गेसिफिकेशन प्लांट है। इसमें इस्तेमाल की जाने वाली ऑक्सीजन गैस का कुछ हिस्सा मेडिकल सेक्टर में उपयोग किया जा सकता है। इसी हिस्से को जामनगर से महाराष्ट्र ट्रांसपोर्ट किया जा रहा है।

महाराष्ट्र में 15 दिन का लॉकडाउन
महाराष्ट्र में कोरोना के केस तेजी से बढ़ रहे हैं। बुधवार रात 8 बजे से मिशन 'ब्रेक द चेन' शुरू हो गया है। इसके तहत राज्यभर में CrPC की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगा दी गई है। राज्य में एक स्थान पर 5 या ज्यादा लोग इकट्‌ठा नहीं हो सकते हैं। यह नियम 1 मई की सुबह 8 बजे तक जारी रहेगा।

मुंबई के उमा अस्पताल के डॉ. योगेश मोरे ने बताया कि हमें रोज 50 ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत है, लेकिन सप्लाई 30 की ही हो पा रही है।
मुंबई के उमा अस्पताल के डॉ. योगेश मोरे ने बताया कि हमें रोज 50 ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत है, लेकिन सप्लाई 30 की ही हो पा रही है।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कर्फ्यू नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश कलेक्टर और पुलिस प्रशासन को दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा है कि राज्य में पाबंदियों को कठोरता से लागू किया जाना चाहिए। DGP संजय पांडे ने स्पष्ट किया है कि इस बार नियम को और कड़ाई से लागू किया जाएगा। इस बार बेवजह बाहर घूमने वालों के खिलाफ लाठी का इस्तेमाल किया जा सकता है।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.