Thursday, 29 April 2021

Maharashtra: श्मशान घाट में कोविड रोगियों की चिता से निकाल कर खा रहा था मानव अंग, पकड़ा गया सिरफिरा

Maharashtra: श्मशान घाट में कोविड रोगियों की चिता से निकाल कर खा रहा था मानव अंग, पकड़ा गया सिरफिरा
सांकेतिक तस्वीर

महाराष्ट्र के फलटन शहर से पंढरपुर जाने वाली सड़क के पास कोलकी नाम का एक इलाका है. यहां एक श्मशान घाट है. इस श्मशान घाट में कोविड से मरने वाले लोगों का अंतिम संस्कार होता है. यहां एक सिरफिरे आदमी द्वारा अधजले मानव अंगों को खाकर भूख मिटाने की खबर सामने आई है. वैसे तो इसकी एक तस्वीर भी आई है, लेकिन उसे देखने और दिखाने की हिम्मत नहीं है.

पिछले एक साल से कोविड के कहर से जब फलटन क्षेत्र में मृतकों की तादाद बढ़ने लगी और श्मशान घाट में जगह कम पड़ने लगी तो सड़क किनारे कोलकी ग्राम पंचायत के पास की जमीन को श्मशान घाट का रूप दे दिया गया. यहां कोविड संक्रमण से मरने वालों का नगरपालिका के कर्मचारियों की मदद से अंतिम संस्कार होने लगा. इस जगह पर हर रोज 10 से 15 लोगों का अंतिम संस्कार होता है. अंतिम संस्कार के बाद यहां से नगरपरिषद के कर्मचारी चले जाते हैं.

भयभीत करती है ये भूख, इंसान तेरी ये कैसी करतूत!

27 अप्रैल, मंगलवार शाम जब कुछ लोगों का अंतिम संस्कार करवा कर ये कर्मचारी चले गए तो उनमें से कुछ मृतकों के शव पूरी तरह से जल नहीं पाए थे. आज सुबह कुछ ग्रामीणों ने एक सरफिरे को इन शवों के अधजले अंग खाते देखा. वह शख्स इन अंगों को फिर से आग में पका कर खा रहा था. ग्रामीणों ने तुरंत नगरपरिषद के कर्मचारियों को इसकी सूचना दी. नगरपरिषद के कर्मचारियों ने इसे शाम साढ़े पांच बजे जिंती नाके से पकड़ लिया और पुलिस को सौंप दिया. फलटन नगरपरिषद के मुख्याधिकारी प्रसाद काटकर के मुताबिक ये मानव अंगों को खाकर अपनी भूख मिटाने वाला शख्स मानसिक रूप से विकृत और बीमार है.

कोरोना काल में अकल्पित हाल!

स्थानीय नागरिकों में इस घटना से दहशत है. चूंकि इस शख्स ने कोरोना संक्रमितों के शव के अंगों को खाया है, इसलिए इस शख्स के कोरोना संक्रमित होने की आशंका जताई जा रही है. फलटन शहर पुलिस थाने के पुलिस इंस्पेक्टर भरत किंद्रे ने बताया कि ये मनोविकृत शख्स अपना नाम भी नहीं बता पाता है. उन्होंने बताया कि पहले इस शख्स को कोरोना टेस्टिंग के लिए सातारा के जिला अस्पताल में भेजा जा रहा है. इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.