Thursday, 15 April 2021

hospital में कन्वर्ट होंगे फाइव स्टार होटल, हल्के लक्षण वाले मरीजों का होगा इलाज





महाराष्ट्र में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 58,952 नये मामले सामने आए. पूरे देश में सबसे ज्दादा कोरोना के मामले यहीं से आ रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना के बढ़ते मामलों के देखते हुए सघन चिकित्सा की ज्यादा जरूरत आ पड़ी है. इसलिए अस्पतालों में गंभीर मरीजों का इलाज किया जाएगा जबकि मुंबई के आलीशान होटलों में मध्यम संक्रमण वाले मरीजों का इलाज करने का फैसला किया गया है.
प्राइवेट अस्पताल चार और पांच सितारा होटलों के साथ मरीजों को भर्ती करने के लिए करार करेंगे. ऐसे मरीज जो गंभीर नहीं है और जिन्हें क्रिटिकल इलाज की जरूरत नहीं है, उन्हें प्राइवेट अस्पताल से होटलों में शिफ्ट किया जाएगा.
बीएमसी के अनुसार होटलों में स्टेप डाउन फैसिलिटी होगी. यानी कोविड-19 मरीजों को न्यूनतम इलाज की जितनी जरूरतें होंगी, वे सब इस होटल में उपलब्ध होंगे. जिन होटलों को कोविड अस्पताल मे बदला जाएगा, उनमें कम से कम 20 कमरे कोविड मरीजों के लिए आरक्षित किए जाएंगे.
इसमें 24 घंटे मेडिकल सुविधा उपलब्ध होगी, जहां डॉक्टर, नर्स, मेडिसिन और एंबुलेंस की सुविधाएं भी होंगी. जिन मरीजों को इसमें रखा जाएगा उनसे अस्पताल इन सुविधाओं के लिए अधिकतम 4 हजार रुपये ले सकेंगे जबकि कमरे का किराया 6000 रुपये होगा. बिना लक्षण वाले कोविड के मरीज भी इन सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे.
पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट के एक नोटिस में कहा गया है, यह देखा गया है कि प्राइवेट अस्पतालों में कई बेड़ उन मरीजों को दे दिए गए हैं, जिन्हें आपातकालीन इलाज की जरूरत नहीं है. गौरतलब है कि भारत में कोरोना वायरस के मामले पिछले 24 घंटे अब तक के सबसे ज्यादा दो लाख पार हो चुके हैं. गुरुवार को देशभर में कोविड-19 के 2,00,739 नए के दर्ज किए गए. इसके साथ ही भारत में अब तक मरीजों की संख्या 1,40,74,564 हो गई है.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.