Thursday, 15 April 2021

खुशखबरी: मई तक भारत आएगी रूस की स्पुतनिक वी वैक्सीन, डीसीजीआई ने दी मंजूरी



भारत में कोरोना की दूसरी लहर खतरनाक स्थिति में पहुंच गई है। तीसरे चरण के वैक्सीनेशन अभियान से भी कोरोना संक्रमण का फैलाव नहीं रुक रहा है। ऐसे में देश के टीकाकरण अभियान में रूसी टीका स्पुतनिक वी को जल्द शामिल करने का फैसला किया गया है। भारत सरकार ने रूसी टीके स्पुतनिक वी को मई के आखिरी तक आयात करने का आदेश दिया है। बता दें कि भारत से पहले अर्जेंटीना, मैक्सिको समेत 59 देशों ने रूसी स्पुतनिक वी वैक्सीन को उपयोग करने की मंजूरी दी है।  दरअसल, देश में वैक्सीन की कमी की खबर के बीच सरकार ने टीका उत्पादन बढ़ाने की दिशा में बड़ा कदम उठाया हैं। रूस में तैयार की गई स्पुतनिक वी वैक्सीन को मई के आखिरी तक भारत आने की उम्मीद है। मीडिया सूत्रों के मुताबिक कोरोना पर काबू पाने के लिए अक्टूबर तक देश में पांच और टीके उपलब्ध हो जाएंगे। फिलहाल भारत में दो टीके कोविशील्ड और कोवैक्सिन का उत्पादन हो रहा है।  भारत में यह तीसरा टीका है जिसे कोविड-19 के खिलाफ भारत में उपयोग करने की अनुमति दी गई है। भारत की दवा नियामक संस्था ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-वी को इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी है।रत की दवा नियामक संस्था डीसीजीआई किसी भी दवा को इस्तेमाल के लिए मंजूरी देने से पहले उसकी सुरक्षा और असर को लेकर परीक्षण करता है। कोविशील्ड और कोवैक्सीन वैक्सीन को भी डीसीजीआई से मंजूरी मिलने के बाद इस्तेमाल की इजाजत मिली थी। डॉ रेड्डीज लैब्स के साथ स्पुतनिक वी साझेदारी हुई है। स्थानीय उत्पादन, जून के अंत या जुलाई की शुरुआत में की जाएगी।देश में स्पुतनिक वी की मंजूरी मिलने के अलावा पांच और टीके जल्द ही उपलब्ध कराए जाएंगे। यानी देश में अगले कुछ महीनों में स्पुतनिक वी की कम से कम 50 मिलियन खुराक का उत्पादन शुरू हो जाएगा। विशेषज्ञों ने बताया कि स्पुतनिक 90% से अधिक प्रभावकारी वाले तीन टीकों में से एक है। 

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.