फिर लॉक हुआ महाराष्ट्र, 15 दिनों का आंशिक लॉकडाउन


क्या खुला और क्या बंद रहेगा?

बिना जरूरी काम के कहीं नहीं जा सकेंगे।
लोकल ट्रेनें और बसें बंद नहीं होंगी।
जरूरी सेवाओं से जुड़े कर्मचारी ही इनमें याता कर पाएंगे।
एग्रीकल्चर सेवाएं देने वालों के लिए ट्रांसपोर्टेशन चालू रहेगा।
सभी बैंक खुले रहेंगे।
ई-कॉमर्स की सेवाएं भी चालू रहेंगी।
पत्रकारों को आने-जाने की छूट दी गई है।
रेस्टोरेंट और होटल में बैठकर खाया नहीं जा सकेगा।
होटल से खाना पैक करवाने की सुविधा रहेगी।
कंस्ट्रक्शन साइट से जुड़े हुए लोगों को मजदूरों के रहने की व्यवस्था करनी होगी।

-------------------------------

महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने कोरोना संकट से निपटने के लिए कड़े प्रतिबंधों का ऐलान किया है, लेकिन कंप्लीट लॉकडाउन न लगाने की बात कही है। उन्होंने कहा कि कल रात 8 बजे से कोरोना के नए प्रतिबंध लागू होंगे। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि यह आपके मन-मुताबिक न हो, लेकिन तब भी ऐसा करना पड़ रहा है। पूरे राज्य में अगले 15 दिन तक संचार बंदी लागू की जाएगी। उन्होंने लॉकडाउन शब्द का इस्तेमाल न करते हुए इसे 'ब्रेक द चेन अभियान' करार दिया। सीएम उद्धव ठाकरे ने साफ किया कि जरूरी सेवाओं को छोड़कर सारे दफ्तर बंद रहेंगे। ईकॉमर्स, बैंक, मीडिया, पेट्रोल पंप, सुरक्षा गार्ड जैसे लोगों को इसमें छूट दी गई है।
पूरे सूबे में आने-जाने पर पाबंदी लगा दी गई है। सुबह 7 से रात 8 बजे तक जरूरी सेवाएं जारी रहेंगी। हम ट्रांसपोर्ट बंद नहीं करेंगे, लेकिन ये सब चीजें जरूरी चीजों के लिए ही रहेंगी। सभी दफ्तरों और संस्थानों को 15 दिनों के लिए बंद किया जाएगा। हमने लंबे समय तक विचार किया है, लेकिन अब सख्त कदम उठाने का वक्त आ गया है। मैं लॉकडाउन की बात नहीं कर रहा हूं, लेकिन हम कुछ सख्त प्रतिबंध लगा रहे हैं। हमें इस मामले में ब्रिटेन से सीख लेने की जरूरत है।
सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि हम कोरोना के पीक तक पहुंचे हैं या नहीं, यह कह नहीं सकते। आंकड़ों में कब तक इजाफा जारी रहेगा, यह भी नहीं कहा जा सकता। ऐसे में हमें कोरोना वैक्सीनेशन की प्रक्रिया को तेज करना होगा ताकि आने वाली लहर को कमजोर किया जा सके। हमने पिछली बार आप लोगों की मदद से कोरोना को नियंत्रित किया था, लेकिन इस बार हालात अलग हैं। उद्धव ठाकरे ने नए डॉक्टरों से अपील की कि वे कोरोना के संकट में मदद करें। इसके अलावा उन्होंने रिटायर्ड डॉक्टरों से भी कोरोना संकट में आगे आने की अपील की।
महाराष्ट्र में कोरोना का संकट इतना बढ़ गया है कि ऑक्सीजन तक की कमी पड़ने लगी है। हम राज्य में जितनी भी ऑक्सीजन का उत्पादन हो रहा है, उसका इस्तेमाल आरोग्य सुविधा के लिए कर रहे हैं। कुल 1,200 मीट्रिक टन ऑक्सीजन में से करीब 1,000 टन का इस्तेमाल कोविड सेवाओं के लिए ही कर रहे हैं। रेमेडिसिवर की भी कमी पड़ने लगी थी, लेकिन केंद्र से मदद मांगने के बाद इंजेक्शन आने शुरू हो गए हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने दूसरे राज्यों से ऑक्सीजन के आयात  को मंजूरी दे दी है, लेकिन इसके लिए समय लगना है। ऐसे में हम केंद्र सरकार से मांग कर रहे हैं कि हवाई मार्ग से यह मदद मिल जाए। इसमें हम एयरफोर्स की भी सहायता ली जा सकती है।
अपने संबोधन के दौरान उद्धव ठाकरे ने कहा कि हम कारोबारियों को जीएसटी रिटर्न फाइल करने के लिए तीन महीने की मोहलत दी जाए। डेडलाइन में इजाफा करने से छोटे कारोबारियों को मदद मिलेगी। हमने कोरोना संकट से निपटने के लिए परीक्षाओं को भी आगे बढ़ा दिया है। इसके अलावा हम केंद्र सरकार से अपील करते हैं कि पाबंदियों के चलते जो लोग आर्थिक तौर पर प्रभावित हो रहे हैं, उन्हें भी मदद की जाए। पीएम ने कहा कि आप 4 दिन टीका उत्सव करें, मैं कहता हूं कि 4 दिन ही नहीं, हमारे यहां तो हर दिन यह चल रहा है।

Post a comment

[blogger]

hindmata mirror

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget