Pimpri Crime: अंतरराज्यीय सटोरियों के गिरोह का पर्दाफाश, 33 बुकी गिरफ्तार

 

Gang of interstate bookies busted, 33 bookies arrested

    पिंपरी. पिंपरी-चिंचवड़ (Pimpri-Chinchwad) की वाकड़ पुलिस (Wakad Police) ने एक अंतरराज्यीय सटोरियों (Bookies ) के गिरोह का पर्दाफाश किया है। यह गिरोह पुणे (Pune) और पिंपरी-चिंचवड़ से सटे गहूंजे स्थित अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में भारत बनाम इंग्लैंड क्रिकेट मैच (India vs England Cricket Match) पर सट्टा ले रहे थे। चूंकि स्टेडियम में बिना दर्शकों के यह मैच खेला जा रहा है, अतः स्टेडियम के सामने की पहाड़ी पर बैठकर दूरबीन से हर बॉल पर नजर रखी जा रही थी और ‘बॉल टू बॉल’ बेटिंग ली जा रही थी। इस गिरोह के 33 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है और उनसे करीबन 45 लाख रुपए का माल बरामद किया है। 

    पुलिस कमिश्नर कृष्ण प्रकाश ने बताया कि पकड़े गए बुकी महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान राज्य से हैं। पुलिस कमिश्नर ने बताया कि वाकड़ पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक डॉ. विवेक मुगलीकर और उनकी टीम को मुखबिर से पता चला कि गहूंजे स्थित अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में चल रहे भारत बनाम इंग्लैंड क्रिकेट मैच पर स्टेडियम के सामने घोराडेश्वर पहाड़ी पर बैठकर दूरबीन से हर बॉल पर नजर रखकर ‘बॉल टू बॉल’ बेटिंग ले रहे हैं।

    इसके अनुसार पुलिस की दो टीमें गठित की गई और पहाड़ी पर छापा मारा गया। यहां आठ बुकी पाए गए जोकि दूरबीन से मैच का निरीक्षण कर अपने दूसरे साथियों को उसकी जानकारी देकर बेटिंग ले रहे थे। इस गिरोह के सदस्य तीन अलग-अलग जगहों पर ठहरे हुए थे। देर रात तक तीनों जगहों पर छापेमारी करते हुए पुलिस ने सटोरियों पर शिकंजा कसने में सफलता प्राप्त की।

    घोराडेश्वर पहाड़ी के साथ ही वाकड़ पुलिस की टीमों ने कुल तीन जगहों पर छापेमारी की और 33 लोगों को हिरासत में लिया। इसमें मध्य प्रदेश के चार, हरियाणा के 13, महाराष्ट्र के 11, राजस्थान के 3, गोवा और उत्तर प्रदेश के एक-एक आरोपी शामिल हैं। ये सभी भोपाल के बुक्की भोलू, नागपुर के बुक्की चेतन उर्फ सोनू के संपर्क में रहकर मैच की जानकारी दे रहे थे और बेटिंग ले रहे थे। मैच के लाइव टेलीकास्ट और दूरबीन से बताये गए अपडेट्स में मात्र कुछ सेकंड का होता था, जिसका लाभ यह गिरोह उठा रहा था। इन छापेमारियों में पुलिस ने 74 मोबाइल फोन, तीन लैपटॉप, एक लाख 26 हजार 430 रुपये नकद, 28 हजार की विदेशी करेंसी आदि फोर्ड इंडिवीयर गाड़ी आदि करीबन 45 लाख रुपए का माल बरामद किया है। 

    गिरोह के दो मुख्य सूत्रधार फरार 

    इस छापामारी के दौरान पुलिस दल पर प्राणघातक हमला भी हुआ। हालांकि पुलिस टीम अपनी पूरी तैयारी के साथ गई थी इसलिए किसी अनहोनी घटना नहीं हुई। इस गिरोह के दो मुख्य सूत्रधार फरार है उनको भी शीघ्र गिरफ्तार कर लिया जाएगा, यह दावा पुलिस कमिश्नर कृष्ण प्रकाश ने किया है। इस पूरी कार्रवाई को पुलिस कमिश्नर कृष्ण प्रकाश, अप्पर आयुक्त रामनाथ पोकले, उपायुक्त आनंद भोईटे, सहायक आयुक्त श्रीधर जाधव के मार्गदर्शन में वाकड थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक डॉ. विवेक मुगलीकर, पुलिस निरीक्षक (क्राइम) संतोष पाटील, सहायक निरीक्षक अभिजीत जाधव, उपनिरीक्षक दीपक कादबाने, हिंजवडी थाने के पुलिस उपनिरीक्षक समाधान कदम, वाकड थाने के कर्मचारी बिभीषण कन्हेरकर, राजेंद्र मारणे, विक्रम जगदाले, बापूसाहेब धुमाल, नितीन ढोरजे, दीपक भोसले विजय गंभीरे, विक्रम कुदल, अतिश जाधव, तात्यासाहेब शिंदे, सुरज सुतार, हेमंत डांगे, सागर सूर्यवंशी, श्याम बाबा, रवींद्र पवार, आकाश पांढरे, जनकसिंह गुमलड्डू, अमर राणे की टीम ने अंजाम दिया। 

    Post a comment

    [blogger]

    hindmata mirror

    Contact form

    Name

    Email *

    Message *

    Powered by Blogger.
    Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget