Tuesday, 23 March 2021

सचिन वाझे प्रकरण में महाराष्ट्र ATS की प्रेस कॉन्फ्रेंस, सचिन वाझे का है हाथ


सरिता शर्मा 
मुंबई. मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर मिली विस्फोटक से लदी स्कॉर्पियो गाड़ी के मालिक मनसुख हिरेन की मौत के मामले में महाराष्ट्र एटीएस ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कई खुलासे किए। उन्होंने कहा कि सचिन वाझे ने अपने ऊपर लगाए गए सभी आरोपों को खारिज कर दिया है। हालांकि, कई जगह की सीसीटीवी फुटेज को नष्ट किया गया है।
महाराष्ट्र एटीएस के प्रमुख जयजीत सिंह ने कहा कि सचिन वाझे की कार की जांच हो रही है। साथ ही, वाझे को 25 मार्च को कोर्ट में पेश किया जाएगा, तब महाराष्ट्र एटीएस उसकी रिमांड की मांग करेगी। एटीएस प्रमुख ने यह भी बताया कि सिम कार्ड गुजरात से खरीदे गए हैं और नरेश ने दिया था। पिछले दिनों, महाराष्ट्र एटीएस ने शिंदे और नरेश नामक दो लोगों को गिरफ्तार किया था। महाराष्ट्र एटीएस के प्रमुख जयजीत सिंह ने कहा कि अभी मनसुख हिरेन मौत के मामले में आगे की जांच चल रही है। कई लोगों के बयान दर्ज किए जा चुके हैं, और लोागें के बयान भी दर्ज होंगे।
महाराष्ट्र एटीएस ने मनसुख हिरेन हत्या मामले के सिलसिले में दमन से एक महंगी कार जब्त की है। एक अधिकारी ने बताया कि महाराष्ट्र के पंजीकरण नंबर वाली एक वॉल्वो कार सोमवार को जब्त की गई, जिसके मालिक का अभी पता नहीं चला पाया है। उन्होंने बताया कि जब्त की गई कार को ठाणे स्थित एटीएस कार्यालय में रखा गया है। अधिकारियों ने बताया कि मुंबई के फोरेंसिक अधिकारी कार की जांच कर रहे हैं।
इससे पहले, इस हत्याकांड के संबंध में शनिवार रात दो व्यक्तियों को गिरफ्तार करने के बाद एटीएस ने गुजरात से एक और व्यक्ति को गिरफ्तार किया था। इस व्यक्ति ने कथित तौर पर आरोपियों को सिम कार्ड उपलब्ध कराए थे।
अधिकारियों ने बताया था कि उन्होंने इस व्यक्ति के पास से कई सिम कार्ड बरामद किये हैं। एटीएस ने मामले के संबंध में, निलंबित पुलिसकर्मी विनायक शिंदे और क्रिकेट मैच के सटोरिये नरेश गौड़ को पिछले सप्ताह गिरफ्तार किया था।
गौरतलब है कि मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास के पास 25 फरवरी को एक संदिग्ध वाहन पाया गया था। इस वाहन से जिलेटिन की 20 छड़ें बरामद हुई थी। यह वाहन ठाणे के कारोबारी मनसुख हिरन का था, जो कथित तौर पर चोरी हो गया था। इसके बाद,पांच मार्च को मनसुख का शव मुंब्रा के पास मिला था।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.