मुंबई के प्रभादेवी और पुणे की फैशन स्ट्रीट में भीषण आग, 2 दिनों में 5 जगहों पर अग्नितांडव



महाराष्ट्र में आग लगने की घटनाओं में अचानक तेजी आई है. कल मुंबई के भांडुप (Bhandup Mall Sunrise Hospital Fire) इलाके में स्थित एक मॉल में भीषण आग लगी थी जिसमें 11 लोगों की मौत हो गई थी. आज राज्य में कुल चार जगहों पर आग की अलग-अलग घटनाएं घटी हैं. मुंबई, अंबरनाथ, बदलापुर और पुणे में आज आग की घटनाएं घटी हैं. मुंबई के प्रभादेवी इलाके में इलेक्ट्रिक वायर के गोडाऊन में आज भीषण लग गई. घटनास्थल पर दमकल विभाग के 16 दल दाखिल हो चुके हैं. गोडाऊन के ग्राऊंड फ्लोर और बेसमेंट में यह आग लगी है. आग भीषण है. आग पर काबू पाने के लिए दमकल विभाग के कर्मचारियों की कोशिश जारी है.

उधर मुंबई से सटे ठाणे जिले के बदलापुर इलाके में एक बंद केमिकल कंपनी में आज सुबह आग लगने की घटना हुई. इस भीषण आग में पूरी कंपनी जल कर खाक हो गई है. बदलापुर के खरवई एमआईडीसी (Maharashtra Industrial Development Corporation) में स्थित ईस्टर इंडिया कंपनी में सुबह आग लग गई. सुबह 4 बजे लगी इस आग ने थोड़ी ही देर में रौद्र रूप धारण कर लिया.

आग लगने की जानकारी मिलते ही अंबरनाथ, बदलापुर, उल्हासनगर और एमआईडीसी के दमकल दलों की 9 गाड़ियां घटनास्थल पर पहुंच गईं और आग बुझाने की कोशिशें शुरू कीं. सुबह 6 बजे इस आग में किसी तरह से काबू पाया जा सका. बताया जा रहा है कि जिस कंपनी में आग लगने की घटना हुई है, वो करीब 3 महीने से बंद पड़ी हुई थी. राहत की बात यह है कि इस आग में किसी व्यक्ति के जख्मी होने या मौत की खबर सामने नहीं आई है लेकिन कंपनी पूरी तरह से जलकर खाक हो गई है.

अंबरनाथ के निसर्ग ग्रीन सोसाइटी में आग

अंबरनाथ के निसर्ग ग्रीन्स नाम की पॉश सोसाइटी में बिल्डर द्वारा ऱखे गए निर्माण कार्य से जुड़े सामानों में शुक्रवार की रात अचानक आग लग गई. इस आग में इमारत बनाने के काम में लगने वाले सारे सामान जल कर ख़ाक़ हो गए. इस आग की जानकारी मिलते ही दमकलकर्मी यहां पहुंच कर आग बुझाने के काम में लग गए. दमकलकर्मियों को यहां आकर पता चला कि सोसाइटी में अग्निरोधक मशीनें बंद पड़ी हुई थीं. इस वजह से आग बुझाने में मुश्किलें बढ़ गईं. आखिर एमआईडीसी के दमकल विभाग की मदद से इस आग को बुझाने में कामयाबी मिली.

इस सोसाइटी में 18 मंजिलें हैं. दमकल विभाग के पास इतनी ऊंची सीढ़ी नहीं थी. वैसे तो इस सोसाइटी में फायर सेफ्टी सिस्टम की व्यवस्था की गई थी. लेकिन जब आग लगी तो वो बंद पड़ी थी. ऐसे में इस व्यवस्था का कोई उपयोग नहीं हो पाया और आग बुझाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी. कल ही मुंबई के भांडुप इलाके में ड्रीम मॉल में लगी आग के बाद से एक बार फिर ऊंची बिल्डिगों में फायर सेफ्टी के नियमों की किस तरह से धज्जियां उड़ाई जा रही हैं और उससे कितनी बड़ी-बड़ी दुर्घटनाएं सामने आ रही हैं, इसकी ये चंद मिसालें हैं. ऐसी सोसाइटीज को फायर NOC (No Objection Cerificate) किस आधार पर दी जाती है? ऐसी सोसाइटीज के फायर सेफ्टी सिस्टम ठीक से काम कर रहे हैं या नहीं, इसकी कोई जांच-पड़ताल होती है या नहीं? अगर ऐसी किसी सोसाइटी का फायर सेफ्टी सिस्टम बंद पड़ जाता है और उसे बनवाया नहीं जाता तो क्या ऐसी सोसाइटी पर कोई कार्रवाई की जाती है या नहीं? इस तरह के कई सवाल सामने आ रहे हैं.

फैशन स्ट्रीट मार्केट में आग

पुणे के कैम्प परिसर में स्थित फैशन स्ट्रीट मार्केट में रात के वक्त भीषण आग लग गई. यह आग किस तरह से लगी , यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है. लेकिन कपड़े की बड़ी-बड़ी दुकानों और गोदामों से यह आग फैलती चली गई. इस दुर्घटना के बाद तुरंत दमकल विभाग को जानकारी दी गई. इसके बाद दमकल दलों की 16 गाड़ियां घटनास्थल पर पहुंचीं. फैशन स्ट्रीट में गलियां बेहद संकरी हैं. इस वजह से आग बुझाने में दमकलकर्मियों को खासी मशक्कत करनी पड़ी.

एक दुखद खबर यह सामने आ रही है कि पुणे फैशन स्ट्रीट की इस आग को बुझाने के बाद घर जाते वक्त एक दमकल विभाग के अधिकारी की मृत्यु हो गई. मृत अधिकारी का नाम प्रकाश हसबे है. वे पुणे कैंटोनमेंट बोर्ड के दमकल विभाग के प्रमुख थे. फैशन स्ट्रीट की आग को बुझाने का काम खत्म करने के बाद जब वे घर जा रहे थे तो येरवाडा इलाके के पास इनकी गाड़ी एक दूसरी गाड़ी से टकरा गई और घटनास्थल पर ही इनकी मौत हो गई.

Post a Comment

[blogger]

hindmata mirror

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget