Monday, 8 February 2021

goregaon के दो शातिरों ने बेचा दो सौ लोगों का निजी डाटा, मुंबई पुलिस ने किया गिरफ्तार



गोरेगांव के रहने वाले दो व्यक्तियों ने बड़ी संख्या में लोगों के कॉल विवरण और बैंक खातों की जानकारी के साथ छेड़छाड़ किया है। मुंबई पुलिस ने करीब दो सौ लोगों के कॉल विवरण और बैंक खातों की जानकारी को अवैध रूप से खरीदने और बेचने के आरोप में इन दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है। जानकारी मिली है कि आरोपियों की पहचान शैलेश मांजरेकर और राजेंद्र साउ के तौर पर हुई है। इन्हें शनिवार रात को अपराध शाखा ने गिरफ्तार किया। अपराध शाखा के अधिकारी ने बताया कि आरोपियों के पास से पुलिस ने छह मोबाइल फोन, लगभग दो सौ लोगों के कॉल विवरण से भरी एक पेन ड्राइव, सीडीआर प्रिंट आउट, तीन लैपटॉप, एक आईपैड और अन्य सामान बरामद किया गया। उन्होंने कहा कि नियमानुसार, केवल पुलिस और कुछ अन्य विभागों के लोगों को ही अनुमति लेकर कॉल विवरण प्राप्त करने का अधिकार है, लेकिन इन आरोपियों ने बड़ी संख्या में लोगों के कॉल विवरण और बैंक खातों की जानकारी के साथ छेड़छाड़ किया है।  अधिकारी ने बताया कि अपराध शाखा को आरोपियों द्वारा संचालित गोरेगांव स्थित एक कंपनी के बारे में भी पता चला है। उन्होंने कहा कि आरोपियों ने दावा किया है कि वह एक निजी खुफिया एजेंसी चलाते हैं। गोपनीय सूचना के आधार पर पुलिस ने शनिवार को कंपनी के कार्यालय की तलाशी ली और दो व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया। अधिकारी ने अनुसार, आरोपियों ने पुलिस को बताया कि हरियाणा का एक व्यक्ति और दिल्ली की एक महिला उन्हें कॉल विवरण और अन्य जानकारियां देते थे। अधिकारी ने कहा, “पुलिस की एक विशेष टीम मामले की छानबीन कर रही है और सात अन्य वांछित आरोपियों को पकड़ने का प्रयास किया जा रहा है। हमें शक है कि इस गिरोह में कई लोग शामिल हो सकते हैं।” गौरतलब है कि देशभर में ऐसे कई शातिर अपराधी हैं जो लोगों के निजी डाटा को बेचकर लाखों रुपये कमाते हैं। यह लोग ऐसे लोगों को डाटा बेचते हैं, जो अपनी सुविधा के अनुसार उस डाटा का इस्तेमाल लोगों को चूना लगाने के लिए करते हैं।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.