Saturday, 28 November 2020

कोरोना वायरस ने ली एक और नेता की जान, विधायक के निधन से शोक की लहर


  • Maharashtra में कोरोना के बढ़ते संकट के बीच एनसीपी विधायक का निधन
  • जायंट किलर के तौर पर पहचाने जाने वाले भारत भालके ने 60 वर्ष की उम्र में ली अंतिम सांस
  • पिछले कुछ समय से कोरोना वायरस से थे संक्रमित

नई दिल्ली। महाराष्ट्र (Maharashtra) के सोलापुर जिले से बड़ी खबर सामने आ रही है। यहां पंढरपुर के विधायक भारत भालके (Bharat Bhalke) का पुणे के रूबी हॉल अस्पताल में निधन हो गया। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ( NCP ) विधायक भारत भालके कुछ समय से कोरोना (Corona) संक्रमित थे, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

वह 30 अक्तूबर को कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे। तब उन्हें रूबी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वे चार दिनों में ठीक होकर अपने घर लौट गए थे। लेकिन बाद भी एक बार फिर उनकी तबीयत बिगड़ी।


इलाज के दौरान ही विधायक को निमोनिया हो गया था, जिसके बाद उनकी हालत और भी ज्यादा बिगड़ने लगी थी। डॉक्टर लगातार उनकी सेहत पर नजर बनाए हुए थे लेकिन देर रात करीब 12 बजे उनका निधन हो गया।

किडनी की समस्या से थे ग्रसित

बताया जा रहा है कि एनसीपी विधायक किडनी की समस्या से भी ग्रसित थे। इस कारण उनकी हालत बिगड़ती चली गई और उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। आपको बता दें कि एनसीपी चीफ शरद पवार ने भी शुक्रवार को असप्ताल जाकर भरत भालके की सेहत को लेकर अपडेट ली थी।

'जायंट किलर' के नाम से बनाई पहचान
60 वर्षीय भारत भालके जायंट किलर के रूप में पहचाने जाते थे। उन्होंने लगातार तीन बार पंढरपुर-मंगलवेधा विधानसभा क्षेत्र से विधायक का चुनाव जीता। भालके ने सबसे पहले वर्ष 2009 में उस वक्त सभी को चौंका दिया जब उन्होंने डिप्टी सीएम रहे विजयसिंह मोहिते पाटील को पंढरपुर की सीट से हरा दिया।

इसके बाद वर्ष 2014 में हुए चुनाव में भी भालके का जादू चला। कांग्रेस की टिकट पर भालके ने चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। हालांकि इसके बाद 2019 में भालके ने कांग्रेस छोड़कर बीजेपी का दामन थाना, लेकिन यहां पार्टी ने उन्हें टिकट ही नहीं दिया।


ऐसे में भालके ने एनसीपी में शामिल होने का फैसला लिया और इसी सीट पर एक बार फिर अपना विजयी रथ आगे बढ़ाने में सफल रहे। भालके का निधन एनसीपी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.