Monday, 23 November 2020

दिल्ली, राजस्थान, गोवा और गुजरात से आने वालों को कोविड-19 निगेटिव रिपोर्ट दिखाने पर ही महाराष्ट्र में एंट्री मिलेगी

 

फोटो राजधानी दिल्ली के आनंद विहार बस टर्मिनल की है। यहां पैसेंजर्स का सैंपल लेते स्वास्थ्यकर्मी। दिल्ली सरकार ने बस स्टैंड पर ही कोविड-19 टेस्टिंग की सुविधा शुरू की है।

महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना की रोकथाम के लिए सोमवार को बड़ा फैसला लिया। इसके मुताबिक अब दिल्ली, राजस्थान, गोवा और गुजरात से महाराष्ट्र जाने वालों के लिए कोविड-19 निगेटिव रिपोर्ट लाना अनिवार्य कर दिया गया है। बगैर कोविड-19 निगेटिव रिपोर्ट के इन राज्यों से महाराष्ट्र पहुंचने वालों को एंट्री नहीं दी जाएगी।

राज्य सरकार ने कहा कि महाराष्ट्र आने वाले सभी लोगों को कोविड-19 प्रोटोकॉल का भी पालन करना होगा। बगैर मास्क दिखने पर जुर्माना देना होगा।

दिल्ली में मोबाइल वैन शुरू

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने सोमवार को राजधानी दिल्ली में मोबाइल वैन RT-PCR लैब की शुरुआत की। ICMR की यह मोबाइल वैन लैब कंटेनमेंट जोन के पास लगाई जाएगी। यहां कोई भी 499 रुपए देकर कोरोना की जांच करा सकेगा। इसकी रिपोर्ट भी महज 6 घंटे के अंदर आ जाएगी।

वहीं, दिल्ली में ITBP के कोविड-19 केयर सेंटर में बेड की क्षमता 2 हजार से बढ़ाकर 3 हजार की जाएगी। ITBP के डायरेक्टर जनरल एसएस देसवाल ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इस कोविड केयर सेंटर में दिल्ली-एनसीआर के मरीजों का इलाज होगा। जो एक हजार नए बेड तैयार किए जा रहे हैं, उनमें ऑक्सीजन सप्लाई की सुविधा भी होगी।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.