कुछ तो पक रहा है: अब बीजेपी नेता गोपीनाथ मुंडे की बेटी पंकजा मुंडे ने की शरद पवार की तारीफ़ - Hindmata Mirror

Thursday, 29 October 2020

कुछ तो पक रहा है: अब बीजेपी नेता गोपीनाथ मुंडे की बेटी पंकजा मुंडे ने की शरद पवार की तारीफ़





मुंबई। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और महाराष्ट्र सरकार के पूर्व मंत्री एकनाथ खड़से के बीजेपी छोड़कर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) में शामिल होने के बाद अब कयास लगाए जा रहे हैं कि बीजेपी में हाशिये पर गईं पंकजा मुड़े बीजेपी छोड़ सकती हैं।
पंकजा मुंडे दिवंगत बीजेपी के वरिष्ठ नेता गोपीनाथ मुंडे की बेटी हैं। पंकजा ने शरद पवार के काम की सराहना करते हुए मराठी में एक ट्वीट किया है। उन्होंने अपने ट्वीट में शरद पवार के काम की तारीफ़ की है।
पंकजा ने ट्वीट कर कहा “शरद पवार साहब को हैट्स ऑफ, कोरोना संक्रमण की परिस्थिति में इतने दौरे. आप में काम करने का स्‍टैमिना बहुत है।” उन्‍होंने अपने पिता स्‍व. गोपीनाथ मुंडे का जिक्र करते हुए कहा, ‘पार्टी, विचार और राजनीति अलग-अलग हैं, फिर भी काम करने वालों का आदर मुंडे जी ने हमेशा सिखाया है।
पंकजा के ट्वीट के बाद महाराष्ट्र की राजनीति में अटकलों का दौर शुरू हो गया है। फडणवीस सरकार में मंत्री रहीं पंकजा मुंडे को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं। महाराष्ट्र में पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और पंकजा मुंडे के बीच पिछले काफी समय से छत्तीस का आंकड़ा है।
विधानसभा चुनाव में अपने पिता की विरासत वाली सीट पर अपने चचेरे भाई के हाथों पराजय का दंश झेल चुकी पंकजा मुंडे और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के बीच चल रहे शीत युद्ध को शांत करने के लिए बीजेपी ने पंकजा मुंडे का महाराष्ट्र में दखल कम कर दिया है। पंकजा मुंडे को बीजेपी ने राष्ट्रीय संगठन में जगह दी है।

-------------–--------
हिंदमाता की विशेष खबर

खडसे के बाद क्या पंकजा मुंडे भी बीजेपी छोड़ेंगी?


क्या एकनाथ खडसे के पार्टी छोड़ने के बाद पंकजा मुंडे भी अपनी नयी राह चुनने की रणनीति बना रही हैं? या वह भारतीय जनता पार्टी में रहकर ही अपने कद को मज़बूत करने की क़वायद में जुट गयी हैं? महाराष्ट्र बीजेपी में पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के ख़िलाफ़ खडसे की तरह ही पंकजा की नाराज़गी भी समय- समय पर सुर्ख़ियों में रही है। ऐसे में  दशहरे पर बीड के ऐतिहासिक भगवान गढ़ पर सभा कर पंकजा मुंडे ने जो संकेत दिए हैं, उसके कई मायने लगाए जा रहे हैं।

भगवान गढ़ उनके समाज का एक महत्वपूर्ण धार्मिक केंद्र है, जिसे साधकर उनके पिता गोपीनाथ मुंडे ने लोगों में अपनी पकड़ मजबूत की थी। पंकजा ने वहां से घोषणा की है कि आने वाले समय में उन्हें अपने 120 विधायक जितवाने हैं और मुंबई के दादर स्थित शिवाजी पार्क, जहाँ शिवसेना की ऐतिहासिक दशहरा सभाएं होती है, वहाँ बड़ी सभा करनी है।
पंकजा की ये महत्तवाकांक्षी घोषणाएं दो सवाल खड़ी करती हैं। क्या वह बीजेपी में रहकर ऐसा करने वाली हैं या अपनी अलग पार्टी बनाकर? पंकजा मुंडे को लेकर ये सवाल एक साल पहले भी उठे थे, लेकिन हुआ कुछ नहीं।
दरअसल अपने पिता की विरासत वाली सीट पर अपने चचेरे भाई के हाथों पराजय का दंश झेल चुकी पंकजा मुंडे ने हार के बाद अपने पिता द्वारा बनाये गए संगठन 'गोपीनाथ मुंडे प्रतिष्ठान' को फिर से सक्रिय करने और उसके माध्यम से सामाजिक और राजनीतिक कार्य करने की घोषणा की थी। उस समय देवेंद्र फडणवीस से उनके टकराव के चलते बीजेपी छोड़ने की खबरें गर्म थीं। लेकिन बीजेपी ने पंकजा मुंडे को राष्ट्रीय संगठन में जगह दे दी और क़रीब एक साल बाद वह सक्रिय हुईं तो मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को अपना बड़ा भाई बताया।  

भगवान गढ़ की सभा में पंकजा ने बीड ज़िले के गन्ना तोड़ने वाले मजदूरों की समस्याओं के समाधान के लिए पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री व एनसीपी प्रमुख शरद पवार से सहयोग लेने की बात कही। उन्होंने प्रदेश भर में अपनी ताक़त बढ़ाने की अपील कार्यकर्ताओं से की, लेकिन साथ ही यह भी कहा कि वह कहीं जाने वाली नहीं है, जहां हैं,  वहीं रहने वाली हैं। 
पंकजा के पिता गोपीनाथ मुंडे महाराष्ट्र में ओबीसी समाज के कद्दावर नेता हुआ करते थे। मुंडे के नेतृत्व में एकनाथ खडसे ने भी ओबीसी वर्ग में अपनी पकड़ मज़बूत की थी, लेकिन आज खडसे बीजेपी छोड़ गए हैं।
क्या पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व अपने ओबीसी आधार को बनाये रखने के लिए महाराष्ट्र में पंकजा मुंडे को आगे लाने की रणनीति पर काम कर रहा है?

यह सवाल देवेंद्र फडणवीस को बिहार के विधानसभा चुनाव का प्रभारी बनाये जाने के बाद से ही उठने लगा था कि प्रदेश में बीजेपी के नेतृत्व की डोर क्या किसी और के हाथों में जानी वाली है? 

संगठन में परिवर्तन

ये खबरें भी गर्म हैं कि बिहार चुनाव के बाद केंद्रीय मंत्रिमंडल में होने वाले फेरबदल में देवेंद्र फडणवीस को भी स्थान मिल सकता है। ऐसा करके शायद बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व महाराष्ट्र में संगठन में देवेंद्र फडणवीस की कार्यशैली को लेकर उठने वाले विवादों पर अंकुश लगाने की कोशिश करे। सत्ता गंवाने के बाद बीजेपी में देवेंद्र फडणवीस पर लगातार यह आरोप लग रहा है कि वह अपनी टीम बनाने के लिए पुराने नेताओं व कार्यकर्ताओं को हाशिये पर धकेल रहे हैं। इसका सबसे बड़ा उदाहरण एकनाथ खडसे विनोद, तावड़े, चंद्रशेखर बावनकुले जैसे नेता हैं, जिन्हें विधानसभा के टिकट ही नहीं दिए गए। 

उत्तर प्रदेश के बाद महाराष्ट्र बीजेपी के लिए सबसे महत्वपूर्ण प्रदेश है और आज शिवसेना उसके साथ नहीं होने के कारण उसे यहां अपनी पकड़ मजबूत बनाये रखना बड़ी चुनौती है। बीजेपी बार बार प्रदेश की महाविकास आघाडी (शिवसेना ,कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस) में विरोधाभास की बात कहकर सरकार गिरने की बात कहती है। 

ठाकरे की रणनीति

केंद्र सरकार की तरफ से जितना दबाव इस सरकार पर बढ़ रहा है उतनी ही अधिक मजबूती इसके घटक दलों में बढ़ती जा रही है।
मुंबई और प्रदेश की अन्य महानगरपालिकाओं के चुनाव साथ मिलकर लड़ने की अब जो ख़बर आ रही है, वह यह संकेत दे रही है कि बीजेपी को अब स्थानीय निकाय संस्थाओं से सत्ता से बाहर करने की रणनीति ठाकरे सरकार ने बना ली है।












Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.

Ads 970x90