Monday, 12 October 2020

ग्रीड फेल होने के कारण मुंबई, ठाणे, नवी मुंबई और पनवेल समेत कई इलाकों में लाइट नहीं, टाटा की बिजली सप्लाई फेल; लोकल ट्रेन थमीं, लाखों कम्यूटर्स फंसे


ग्रिड फेल होने का बड़ा असर लोकल ट्रेनों पर पड़ा। ट्रेनें रुकीं तो लोग पटरियों से ही जाने लगे।

ग्रिड फेल हो जाने के कारण पूरे मुंबई रीजन यानी मुंबई, ठाणे, मुंबई, नवी मुंबई और पनवेल समेत कई इलाकों में लाइट गुल हो गई है। जानकारी के मुताबिक, सोमवार सुबह 10.05 बजे बिजली सप्लाई रुकी। इसकी वजह टाटा की बिजली सप्लाई न होना बताया गया है। बृहन्मुंबई इलेक्ट्रिक सप्लाई एंड ट्रांसपोर्ट (BEST) के प्रवक्ता ने पुष्टि की है कि ग्रिड की खराबी के कारण शहर में बिजली की आपूर्ति बाधित है।

फोटो मुंबई की लोकल ट्रेन की है। ट्रेन रुकने के चलते एक बुुजुर्ग महिला ट्रेन में ही सो गई। मुंबई रीजन में बिजली आपूर्ति रुकने का सीधा असर लोकल ट्रेनों पर पड़ा।
फोटो मुंबई की लोकल ट्रेन की है। ट्रेन रुकने के चलते एक बुुजुर्ग महिला ट्रेन में ही सो गई। मुंबई रीजन में बिजली आपूर्ति रुकने का सीधा असर लोकल ट्रेनों पर पड़ा।

जानकारी के मुताबिक, 400 केवी की लाइन में खराबी आई है। इसकी वजह से एमआईडीसी, पालघर, दहानू इलाके में बिजली की आपूर्ति पूरी तरह से प्रभावित हुई है।

सेंट्रल रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सीपीआरओ ने कहा कि ग्रिड बंद होने के कारण उपनगरीय ट्रेन सेवाएं भी बाधित हुई हैं। चर्चगेट और वसई के बीच पश्चिम रेलवे की लोकल ट्रेनों की सेवाएं भी प्रभावित हुईं हैं।

इस बीच, ऊर्जा मंत्री नितिन राउत ने कहा है कि मुंबई और आसपास के क्षेत्रों में बिजली की आपूर्ति को बहाल करने का काम किया जा रहा है। एक घंटे में बिजली आ जाएगी। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज यानी एनएसई ने एक ट्वीट में कहा कि वहां सामान्य रूप से काम हो रहा है।

ट्रेनें रुकने के कारण कई लोग परेशान हुए।
ट्रेनें रुकने के कारण कई लोग परेशान हुए।

मुंबई में इस समय करीब रोजाना 3000-3200 मेगावाट बिजली की खपत होती है। हालांकि, दिन और रात में खपत का रेशो अलग होता है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, अडानी इलेक्ट्रिसिटी मुंबई लिमिटेड मुंबई उपनगरों में 27 लाख कंज्यूमर्स को बिजली देता है। इसमें करीब 21 लाख घरेलू उपभोक्ता है। वहीं, टाटा पावर मुंबई में लगभग 7 लाख उपभोक्ताओं को बिजली की आपूर्ति करता है।


SHARE THIS

Author:

Etiam at libero iaculis, mollis justo non, blandit augue. Vestibulum sit amet sodales est, a lacinia ex. Suspendisse vel enim sagittis, volutpat sem eget, condimentum sem.

0 coment rios: