Wednesday, 7 October 2020

CBI के पूर्व चीफ ने खुदकुशी की:हिमाचल के पूर्व डीजीपी और नगालैंड-मणिपुर के पूर्व राज्यपाल अश्विनी कुमार ने घर में फांसी लगाई, डिप्रेशन से जूझ रहे थे

 Logo


अश्विनी कुमार 1973 बैच के आईपीएस अफसर थे। वो नगालैंड के गवर्नर भी रह चुके हैं।

पूर्व सीबीआई चीफ और हिमाचल के पूर्व डीजीपी अश्विनी कुमार ने बुधवार को खुदकुशी कर ली। रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने शिमला स्थित घर में फांसी लगा ली। बताया जा रहा है कि वो डिप्रेशन से जूझ रहे थे।

शिमला के एसपी मोहित चावला ने इस घटना की पुष्टि की है और कहा कि यह चौंकाने वाला मामला है। चावला ने कहा कि पुलिस अफसरों के लिए अश्विनी कुमार रोल मॉडल थे।

सुसाइड नोट में लिखा- अगली यात्रा पर निकल रहा हूं
शिमला स्थित ब्राक हास्ट स्थित आवास में अश्विनी कुमार का शव लटका पाया गया। पुलिस को घटनास्थल से सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। इसमें लिखा गया है कि जिंदगी से तंग आकर अगली यात्रा पर निकल रहा हूं।

2008 में सीबीआई के डायरेक्टर बनाए गए थे
अश्विनी कुमार मार्च 2013 से जून 2014 तक नागालैंड के गवर्नर थे। 2013 में थोड़े समय के लिए मणिपुर के गवर्नर भी रहे। अगस्त 2006 से जुलाई 2008 के बीच वे हिमाचल प्रदेश के डीजीपी रहे। 2 अगस्त 2008 से 30 नवंबर 2010 के बीच सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (सीबीआई) के डायरेक्टर के पद पर रहे थे। उस दौरान अमित शाह को शोहराबुद्दीन शेख के फर्जी एनकाउंटर मामले में गिरफ्तार किया गया था।

1985 में शिमला के एसपी रहते हुए अश्विनी कुमार को स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) में अप्वाइंट किया गया। 1985 से 1990 तक उन्होंने एसपीजी में कई पदों पर काम किया। वे पीएमओ में असिस्टेंट डायरेक्टर भी रह चुके थे। उन्होंने भारतीय खुफिया एजेंसियों के लिए भी काम किया था।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.