Friday, 16 October 2020

कैमरे में कैद हुई वारदात:मुंबई में 5 लोगों ने कुल्हाड़ी के दम पर किया व्यापारी का अपहरण, मुख्य आरोपी लड़ चुका था लोकसभा का चुनाव

 

सरेआम हुए अपहरण की यह वारदात मौके पर लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई है।
  • मलाड पूर्व के दिंडोशी बस डिपो के पास मर्सिडीज में सवार राकेश पांडे को कुछ लोग अगवा कर ले गए थे
  • पुलिस जांच में सामने आया है कि प्रदीप के पिता से राकेश ने बड़ी रकम उधार ली थी लेकिन रुपए वापस नहीं कर रहा था

भीड़भाड़ वाली सड़क पर हुए एक कारोबारी के अपहरण के मामले में मुंबई पुलिस ने 5 लोगों को गिरफ्तार किया है। रविवार 11 अक्टूबर को हुई अपहरण की यह वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई थी। खास यह है कि गिरफ्तार आरोपियों में से एक लोकसभा का चुनाव भी लड़ चुका है।

कुरार पुलिस के मुताबिक, रविवार 11 अक्टूबर की शाम मलाड पूर्व के दिंडोशी बस डिपो के पास मर्सिडीज में सवार राकेश पांडे को कुछ लोग अगवा कर ले गए थे। आरोपी हाथ में कुल्हाड़ी लेकर उन्हें अगवा करने पहुंचे थे। घटनास्थल पर वारदात के एक व्यक्ति ने पुलिस को फोन किया। लेकिन जब तक पुलिस पहुंचती तब तक अपहरणकर्ता राकेश को दूसरी कार में बैठाकर फरार हो चुके थे।

ऐसे आरोपियों तक पहुंची पुलिस
क्राइम ब्रांच यूनिट 12 के सीनियर पीआई महेश तावड़े ने बताया कि कुरार पुलिस ने मामला दर्ज कर सीसीटीवी फुटेज खंगाला। मामला कारोबारी के अपहरण का था तो क्राइम ब्रांच ने भी जांच शुरू कर दी। सीसीटीवी फुटेज में एक आरोपी का हुलिया जाना पहचाना लगा। उसकी तलाश शुरू की और फिर तकनीकी सर्विलांस की मदद से अलग-अलग जगहों से सभी पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया।

सभी पांचों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।
सभी पांचों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

लोकसभा चुनाव में मिले थे सिर्फ 15 हजार वोट
साल 2019 में शिरडी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ चुका मुख्य आरोपी प्रदीप सरोदे पेशे से बालू व्यवसायी है। उसके खिलाफ 10 से भी ज्यादा आपराधिक मामले दर्ज हैं। लोकसभा चुनाव में उसे 15 हजार वोट मिले थे।

पीड़ित के पिता ने आरोपी के पिता से पैसे लिए थे उधार
पुलिस जांच में सामने आया है कि प्रदीप के पिता से राकेश ने बड़ी रकम उधार ली थी लेकिन रुपये वापस नहीं कर रहा था। इससे नाराज प्रदीप ने डराने-धमकाने के लिए चार साथियों के साथ मिलकर राकेश पांडे का अपहरण किया और फिर छोड़ दिया।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.