Tuesday, 15 September 2020

झूठी निकली कंगना।एक्ट्रेस ने कहा- चंडीगढ़ में उतरते ही सुरक्षा नाममात्र की रह गई; सच्चाई- एक डीएसपी, 22 पुलिसकर्मी, 6 कमांडाे और 10 सीआईएसएफ जवान तैनात थे

 

कंगना सोमवार को मुंबई से चंडीगढ़ पहुंचीं थीं। पंजाब पुलिस ने एयरपोर्ट डीएसपी की अगुवाई में सुरक्षाबल तैनात कर रखे थे।
  • पंजाब पुलिस ने कहा कि कंगना को प्रोटोकॉल के तहत ही सिक्योरिटी दी गई
  • महाराष्ट्र सरकार से विवाद के बीच केंद्र ने कंगना को Y सिक्योरिटी दे रखी है

Y सिक्योरिटी के साथ कंगना रनोट सोमवार सुबह मुंबई से चंडीगढ़ पहुंची। कंगना के आने की खबर पंजाब पुलिस और चंडीगढ़ एयरपोर्ट की सिक्योरिटी विंग को पहले से ही थी। इसलिए, पुलिस ने एयरपोर्ट डीएसपी की अगुवाई में सुरक्षाबल तैनात कर रखे थे। डीएसपी एयरपोर्ट जतिंदर पाल सिंह ने बताया कि कंगना की सुरक्षा में पंजाब पुलिस के एक डीएसपी, 22 पुलिसकर्मी, 6 कमांडाे और करीब 10 सीआईएसएफ के जवान तैनात थे।

जैसे ही कंगना एयरपोर्ट टर्मिनल से बाहर आईं तो सीआईएसएफ और पंजाब पुलिस के जवानों ने घेरा बना लिया। मोहाली से बाहर निकलते ही कंगना ने सोशल मीडिया पर मैसेज डालकर कहा-‘चंडीगढ़ में उतरते ही मेरी सिक्योरिटी नाममात्र की रह गई है’। लेकिन, असल में उनकी सिक्योरिटी में कोई कमी नहीं थी।

चंडीगढ़ एयरपोर्ट की यह फोटो 9 सितंबर की है। उस दिन कंगना यहां से मुंबई गई थीं।
चंडीगढ़ एयरपोर्ट की यह फोटो 9 सितंबर की है। उस दिन कंगना यहां से मुंबई गई थीं।

पिछले हफ्ते जब कंगना चंडीगढ़ से मुंबई गई थीं, तब भी इतने ही जवान थे, जितने सोमवार को थे। एसएसपी कुलदीप सिंह चहल ने कहा कि कंगना को प्रोटोकाॅल के तहत ही सुरक्षा मुहैया करवाई गई। एयरपोर्ट टर्मिनल से लेकर जिस गाड़ी में कंगना को बैठना था, वहां तक पंजाब पुलिस के जवान तैनात थे। 100 मीटर के दायरे में करीब 22 जवान थे।

रोपड़ के रास्ते पर खड़े थे 37 पुलिसकर्मी
कंगना जब अपनी गाड़ी में मनाली के लिए निकलीं तो पंजाब पुलिस की गाड़ियां आगे-पीछे थीं। दोनों गाड़ियों में करीब 6 से 8 जवान थे। रोपड़ बॉर्डर तक जाने वाले रास्ते के चौराहे पर करीब 37 जवान तैनात थे।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.