Monday, 14 September 2020

कोरोना के दौर में संसद का पहला सत्र LIVE:सदन में प्रश्नकाल नहीं होने पर विपक्ष का हंगामा, कांग्रेस ने कहा- आप लोकतंत्र का गला घोंटने की कोशिश कर रहे हैं


कोरोना महामारी के बीच 17वीं लोकसभा का चौथा सत्र सोमवार से शुरू हो गया है। लोकसभा में प्रश्नकाल नहीं होने पर विपक्ष ने सवाल उठाए। कांग्रेस के सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि प्रश्नकाल सदन की कार्यवाही का अहम हिस्सा है। यह गोल्डन आवर्स है, लेकिन आप कह रहे हैं कि विशेष परिस्थितियों की वजह से इसे नहीं करा सकते हैं। दरअसल, आप लोकतंत्र का गला घोंटने की कोशिश कर रहे हैं।

उधर, एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि सरकार ने हमारे सवाल पूछने का अधिकार छीन लिया है। विपक्ष के अन्य सदस्यों ने भी कहा कि प्रश्नकाल होना जरूरी है। तृणमूल कांग्रेस के सांसद कल्याण बनर्जी ने कहा कि प्रश्नकाल संसदीय प्रणाली के मूलभूत ढांचे से जुड़ा है। इसका प्रमुख अंग है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने प्रश्नकाल के मुद्दे पर सरकार का बचाव किया। उन्होंने कहा कि असाधारण परिस्थितियों में संसद की कार्यवाही हमको करनी पड़ रही है। चार घंटे के लिए सदन चलेगा। मैंने अपील की थी कि इसमें प्रश्नकाल न हो। आधे घंटे का एक जीरो आवर हो।

इससे पहले, लोकसभा की कार्यवाही आज सुबह 9 बजे शुरू हुई और यह एक बजे तक चलेगी। उधर, राज्यसभा में कामकाज दोपहर तीन बजे शुरू होगा। पहले दिन राज्यसभा में उपसभापति पद का चुनाव होगा।

मोदी बोले- सीमा पर जवान मुस्तैद, पूरी संसद और देश उनके साथ है
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, 'आज जब हमारी सेना के वीर जवान सीमा पर डटे हुए हैं। हिम्मत के साथ, जज्बे के साथ, बुलंद हौसलों के साथ, दुर्गम पहाड़ियों में डटे हुए हैं। कुछ समय के बाद बर्फबारी भी शुरू होगी। ऐसे वक्त में संसद से एक भाव, एक सुर से ये आवाज आनी चाहिए कि देश और पूरा सदन उनके साथ खड़ा है। कोरोना के दौर में जब तक दवाई नहीं, तब तक कोई ढिलाई नहीं होनी चाहिए।'

उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि दुनिया के किसी कोने में वैक्सीन बने और हम सभी को मिले।' उन्होंने कहा, 'मुश्किल दौर में संसद का सत्र शुरू हो रहा है। एक तरफ कोरोना है और दूसरी तरफ कर्तव्य। सांसदों ने कर्तव्य का पथ चुना है। मैं उन्हें धन्यवाद और बधाई देता हूं।'

सदन में प्रधानमंत्री मोदी समेत अन्य सांसद भी मास्क पहने रहे।
सदन में प्रधानमंत्री मोदी समेत अन्य सांसद भी मास्क पहने रहे।

अपडेट्स

  • लोकसभा की कार्यवाही सुबह 9 बजे शुरू हुई। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को श्रद्धांजलि दी गई। इसके बाद लोकसभा की कार्यवाही एक घंटे के लिए स्थगित कर दी गई।
  • डीएमके और सीपीआई (एम) ने नीट एग्जाम की वजह से 12 छात्रों की आत्महत्या के मामले में लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव दिया।
  • कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने लोकसभा में चीन सीमा विवाद पर स्थगन प्रस्ताव का नोटिस दिया।
  • सीपीएम दिल्ली दंगों के मामले में पार्टी के नेता सीताराम येचुरी का नाम आने को मुद्दा बना रही है। सीपीएम सांसद एएम आरिफ ने लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव का नोटिस दिया है।
  • लोकसभा स्पीकर ओम बिरला की ओर से एक चिट्ठी और डीआरडीओ की किट सभी सांसदों को भेजी गई। इसमें मास्क, सैनिटाइजर और इम्युनिटी बढ़ाने वाली चाय और कोरोना से बचाव के मैनुअल हैं।
  • पहली बार एक सदन की बैठक में दोनों सदनों के चैम्बर और गैलरी का इस्तेमाल किया गया। यानी लोकसभा की कार्यवाही आज सुबह शुरू हुई तब कुछ सदस्य लोकसभा में तो कुछ राज्यसभा में बैठे।
  • सत्र के पहले दिन राज्यसभा में उपसभापति पद के लिए चुनाव होगा। विपक्ष की ओर से राजद नेता मनोज झा और एनडीए से जदयू नेता हरिवंश के बीच कांटे की टक्कर है।

मानसून सत्र की खास बातें
1. इस बार सत्र के दौरान 18 दिन लगातार कार्यवाही चलेगी। कोई छुट्टी नहीं होगी। शनिवार और रविवार को भी काम होगा। आमतौर पर दोनों सदनों में एक साथ काम होता है, लेकिन इस बार दो शिफ्ट में होगा।
2. लोकसभा आज सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक चलेगी। राज्यसभा की कार्यवाही दोपहर 3 बजे से शाम 7 बजे चलेगी। इसके बाद 15 सितंबर से एक अक्टूबर तक लोकसभा दोपहर 3 बजे से शाम 7 बजे तक चलेगी। वहीं, राज्यसभा सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक चलेगी।
3. मानसून सत्र में 47 विधेयक पेश किए जाएंगे। इनमें 11 विधेयक ऐसे होंगे जो अध्यादेश की जगह लेंगे।
4. दोनों सदनों में प्रश्नकाल नहीं होगा और शून्यकाल भी सीमित किया गया है। सत्र एक अक्टूबर तक चलेगा।

सत्र से पहले 5 सांसदों को कोरोना, 9 दूसरे सांसद भी नहीं पहुंचे
सत्र से पहले सभी सांसदों की कोरोना जांच की गई, जिनमें 5 सांसदों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। तृणमूल कांग्रेस के 7 सांसद भी सत्र में हिस्सा नहीं ले रहे। इनमें राज्यसभा के मुख्य सचेतक सुखेंदु शेखर राय भी शामिल हैं। भाजपा के 2 सांसद भी नहीं आएंगे।

सदन की कार्यवाही कैसे चलेगी?
4 बड़े डिस्प्ले स्क्रीन सदन के चैम्बर में लगाए गए हैं। छह छोटी स्क्रीन 4 गैलरियों में लगाई गई हैं। ऑडियो कंसोल, अल्ट्रावायलेट जर्मीसिडल रेडिएशन, ऑडियो-वीडियो सिग्नल्स के लिए दोनों सदनों को जोड़ने वाले स्पेशल केबल्स, अधिकारियों की गैलरी को अलग करने के लिए पॉलीकार्बोनेट शीट का इस्तेमाल किया गया है।

संक्रमण फैलने से रोकने के लिए क्या इंतजाम?
संक्रमण फैलने से रोकने के लिए 6 बार रोज एसी बदले जाएंगे। सांसदों को कोरोना से बचाव के लिए डीआरडीओ की किट मिलेगी। हर किट में 40 डिस्पोजल मास्क, एन95 मास्क, सैनिटाइजर की 20 बोतलें, 40 ग्लब्ज और दरवाजा बंद करने के लिए टच फ्री हुक्स होंगे।


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.