Sunday, 31 May 2020

उल्हासनगर ट्रेड एसोसिएशन के प्रेजिडेंट सुमित चक्रवर्ती ने क्या कहा संघर्ष सामाजिक संस्था द्वारा किए जा रहे महान कार्यों को लेकर

उल्हासनगर- पिछले १५ दिनों से उल्हासनगर में लगातार कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद से ही शहर में प्रशासन हाईअलर्ट पर है। डॉक्टर,स्वास्थ्य कर्मी से लेकर पुलिसकर्मी और प्रशासन दिन रात अपनी जान जोखिम में डालकरअपनी सेवाएं दे रहे हैं। ये लोग अपनी जान जोखिम में डालकर शहर को कोरोना वायरस महामारी से बचाने की कवायद में जुटे हैं. कोरोना के खिलाफ लड़ रहे इन कोरोना वारियर्स को अब कुछ सामाजिक संस्थाओं का भी सहयोग मिल रहा है। इसी कड़ी में उल्हासनगर शहर की प्रमुख सामाजिक संस्था 'संघर्ष सामाजिक संस्था' द्वारा कोरोना वायरस से निपटने के लिए अपना भरपूर योगदान दिया जा रहा है।
संस्था के मुखिया पंजू बजाज व उनकी टीम द्वारा कैंप-३ में स्क्रीनिंग टेस्ट की शुरुआत की गई है जिसमें डॉ अनीता व आशा स्वयं सेविकाओं का भरपूर सहयोग मिल रहा है। बताया जा रहा है कि सेक्शन 17 से सेक्शन 24 तक लगभग 950 लोग स्क्रीनिंग टेस्ट का लाभ उठा चुके हैं। इसके साथ ही जरूरत मंदों को भोजन के पैकेट भी वितरित किए जा रहे हैं। संस्था के इस कार्य का पूरे शहर में तारीफ हो रही है। कई लोग तो ये तक कह रहे हैं कि कि जो काम एक जवाबदेह प्रशासन को करना चाहिए, वो काम एक संस्था कर रही है।
इसी कड़ी में व्यापारियों के हक़ और उनकी तकलीफों के लिए लड़ने वाले UTA यानि उल्हासनगर ट्रेड एसोसिएशन के प्रेजिडेंट सुमित चक्रवर्ती ने भी संघर्ष सामाजिक संस्था' के कामों की तारीफ की और उमनपा प्रशासन का काम एक एनजीओ कर रहा है, ऐसा विचार व्यक्त करते हुए संस्था का आभार मानते हुए लोगों को सन्देश दिया। आइये देखते हैं क्या कहा सुमित चक्रवर्ती ने।



संघर्ष सामाजिक संस्था और उसके अध्यक्ष पंजू हमेशा से ही सामाजिक कार्यों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता आ रहे हैं. चाहे वो विकास संबंधी कमियों को उजागर करने का मामला हो या फिर लोगों की समस्याओं को रेखांकित करने और प्रशासन का ध्यान उन समस्याओं की ओर खींचने का मामला हो , सभी क्षेत्रों में संघर्ष सामाजिक संस्था हमेशा आगे रहा है। फ़िलहाल संस्था द्वारा इस कवायद को आने वाले दिनों में भी शुरू रखा जाएगा ताकि कुरौना वायरस पर पूरी तरह से अंकुश लगाया जा सके।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.