Thursday, 16 April 2020

Hindmata breaking: ठाणे से लाकर उल्लासनगर बेचा जा रहा है दारू



24 घंटे पुलिस की थकावट होने के बाद भी पुलिस ने रात भर रखी नाकाबंदी
उल्हासनगर- उल्हासनगर के सेंट्रल पुलिस स्टेशन के अधिकारियों ने आज दोपहर तकरीबन 1 या 2 बजे के करीब  दो लोगों को एक कार में इंग्लिश दारू बेचने को उल्हासनगर लाते रंगे हाथों पकड़ा। पूछताछ में मालूम पड़ा कि पकड़े गए दोनों लोग ठाणे से एक वाइन शॉप से दारू लेकर आ रहे थे। पकड़े गए आरोपी का नाम दिलीप पंजाबी बताया जा रहा है। दिलीप के उल्हासनगर- अंबरनाथ में कई बियर शॉप लीज पर लिए हुए हैं। यह दारू लॉक डाउन की वजह से 3 गुना 4 गुना दाम पर बेचने के लिए उल्हासनगर लाकर बेचा जाना था।



पुलिस इंक्वायरी कर जल्द ही खुलासा करने वाली है कि ये दारू किधर बेचने के लिए लाया जा रहा है। इन दिनों दारू की डिमांड बढ़ने से उल्हासनगर में 4 गुना 5 गुना दाम पर दारू बेचा जा रहा है जिससे कई तरह के दारू के तस्कर बढ़ गए हैं। यहां तक कि नासिक, गोवा दमन और मध्यप्रदेश से भी चोरी-छिपे माल लाया जा रहा है। कुछ लोग तो इसका फायदा उठाकर नकली दारू बनाकर बेच रहे हैं। फिलहाल सेंट्रल पुलिस के सब इंस्पेक्टर योगेश गायकर इस मामले को गंभीरता से लेकर आगे की जांच में जुट गए हैं।
 सब इंस्पेक्टर योगेश गायकर

यह माल ठाणे के रंगोली वाइन शॉप का बताया जा रहा है। हैरानी की बात यह है कि यह दो लोग इतने दूर थाने से कैसे माल यहां तक लाए। यहां लॉक डाउन होने के चलते सब बॉर्डर सील होने के चलते सब्जी और रोजमर्रा की चीजें भी पुलिस गाड़ियों को खोल-खोल कर चेक कर रही है। ठाणे से उल्लासनगर आने में कहीं टोल कहीं चौक आते हैं, क्या किसी पुलिस किसी एक्सरसाइज ऑफिसर ने चेक नहीं किया गाड़ी को या किसी खास ऑफिसर के कहने पर गाड़ी को बॉर्डर पास करवाया गया? यह जांच का विषय है। हिंदमाता मिरर इस न्यूज़ की तह तक जाकर आपको आगे की अपडेट देता रहेगा।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.