बड़े गैंगस्टरों को चाय पिलाते-पिलाते खुद बन गया कुख्यात



विभिन्न मामलों में वांछित गैंगस्टर रवि पुजारी को दक्षिण अफ्रीका के सेनेगल से सोमवार तडक़े कर्नाटक के बेंगलुरु लाया गया। उसे कोर्ट ने 7 मार्च तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया है। पुजारी पर भारत में हत्या और जबरन वसूली के करीब 200 मामले दर्ज हैं। आज हम आपको बताएंगे कैसे बड़े गैंगस्टरों को चाय पिलाते-पिलाते वो खुद बन गया डॉन।


मुंबई । मायनगरी मुंबई में उसके नाम का सिक्का चलता था। ज्वैलरी के कारोबारी से लेकर रियल स्टेट के बड़े-बड़े बिल्डर तक सभी उसके नाम से खौफ खाते थे। इतना ही नहीं इस कुख्यात के खौफ का आलम यह था कि बड़े-बड़े फिल्मी सितारों को वो खुलेआम धमकियां दिया करता था। पुलिस की फाइलों में उसपर दर्जनों मामले दर्ज हैं जिनमें हत्या, और फिरौती समेत कई संगीन जुर्म शामिल हैं। अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी को जब पुलिस ने अफ्रीकी देश सेनेगल से गिरफ्तार किया तो कई लोगों ने राहत की सांस ली है। 90 के दशक में रवि पुजारी मुंबई से ही अपना गिरोह चलाता था। कर्नाटक पुलिस ने इस कुख्यात के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी कर रखा था। सेनेगल के डकार से रवि पुजारी को गिरफ्तार किया गया है। जानकारी के मुताबिक यह गैंगस्टर यहां ‘महाराजा’ नाम से अपना एक होटल भी चलाता था। लेकिन यह काम तो वो अपने काले कारनामे को छिपाने के लिए किया करता था। दरअसल वो अब भी कई बड़े कारोबारियों से पैसे वसूली के काम लगा हुआ था। इसके अलावा वो अपना दबदबा बनाए रखने के लिए नामचीन लोगों को धमकियां भी दिया करता था।

रवि पुजारी के अंडरवर्ल्ड की दुनिया में आने और एक गैंगस्टर बनने की कहानी भी काफी दिलचस्प है। कहा जाता है कि 80 के दशक में रवि पुजारी मुंबई के अंधेरी में एक चाय की दुकान पर काम करता था। यहां वो विनोद मटकर और रोहित वर्मा जैसे गैंगस्टरों को चाय पिलाने का काम करता था। जब रोहित वर्मा ने गैंगस्टर बाला जाल्टे की हत्या की थी तो पुजारी ने ही उस वक्त उसे हथियार मुहैया करता था। जरायम की दुनिया में रवि पुजारी ने यहीं से अपना पहला कदम रखा था। रवि पुजारी का इसके बाद कई गैंगस्टरों के साथ मिलना-जुलना बढ़ा और फिर वर्मा ही उसे बैंकॉक ले गया जहां उसकी पहली मुलाकात हुई छोटा राजन से।

जल्दी ही रवि पुजारी, छोटा राजन का चहेता बन गया और मुंबई में अंडरवर्ल्ड माफिया दाऊद इब्राहिम के लिए छोटा राजन के साथ मिलकर राजू पुजारी ने कई संगीन जुर्मों को अंजाम दिया। हालांकि साल 2001 में राजू अपने उस्ताद छोटा राजन से अलग हो गया और उसने बेंगलुरु में अपना अड्डा बना लिया। मूल रुप से मैंगलोर के पदबिद्री का रहने वाला रवि पुजारी अंग्रेजी और कन्नड़ भाषा जानता है।

करीब 5 साल पहले उसने मशहूर फिल्म निर्माता अली मोरानी के जुहू स्थित घर के पास खौफ फैलाने के इरादे से गोलीबारी कराई थी। आरोप यह भी है कि उसने फिल्म निर्देशक महेश भट्ट को दो बार जान से मरवाने की कोशिश की। इतना ही नहीं रवि पुजारी ने साल 2009 से 2013 के बीच अभिनेता अक्षय कुमार, राकेश रौशन, सलमान खान और शाहरुख खान जैसे मशहूर हस्तियों को भी धमकिया दी हैं। पिछले ही साल जेएनयू के नेता उमर खालिद, शहरा राशिद और गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवाणी ने भी पुजारी की तरफ से धमकी मिलने की शिकायत दर्ज कराई थी। 15 साल से फरार पुजारी को जब डकार से गिरफ्तार किया गया था तब तीन बसों में भरकर पुलिस वाले उसे गिरफ्तार करने पहुंचे थे। जानकारी के मुताबिक गिरफ्तारी के वक्त पुजारी नाई की दुकान पर बैठा था। बहरहाल अब इस कुख्यात गैंगस्टर को भारत लाने की तैयारी चल रही है ताकि उसके गुनाहों का हिसाब-किताब किया जा सके।

Post a comment

[blogger]

hindmata mirror

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget