Thursday, 17 October 2019

मोदी मनमोहन में ज़ुबानी जंग

मुंबई- महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं. इन चुनावों सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी जहां कश्मीर से हटाई गई धारा 370 को प्रमुख मुद्दे के तौर पर पेश कर रही है, वहीं कांग्रेस अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर मोदी सरकार को फेल बताकर जनता से समर्थन मांग रही है. इस क्रम में अब कांग्रेस ने सरकार की नीतियों का विरोध करने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री व अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह को आगे करने का फैसला किया है. मनमोहन सिंह गुरुवार को मुंबई में एक कार्यक्रम को संबोधित किया। पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने गुरुवार को कहा कि 2024 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी तक पहुंचने की कोई उम्मीद नहीं है। इसके लिए सालाना 10-12 फीसदी ग्रोथ की जरूरत होगी, लेकिन भाजपा के कार्यकाल में साल दर साल विकास दर में गिरावट आ रही है। महाराष्ट्र चुनाव के सिलसिले में मुंबई पहुंचे मनमोहन सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में ऐसा कहा। मनमोहन सिंह ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बयान का जवाब देते हुए गुरुवार को कहा कि सरकार समस्याओं का समाधान तलाशने की बजाय विपक्षियों पर आरोप लगाने की आदत से मजबूर है। सीतारमण ने बुधवार को कहा था कि मनमोहन सिंह और आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन के समय सरकारी बैंक सबसे बुरे दौर में थे

वहीँ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरूवार को सातारा में एनसीपी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि एक समय तो राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का गढ़ माना जाता था, उस इलाके में पार्टी के पास चुनाव लड़ने के लिए कोई उम्मीदवार ही नहीं था। ऐसे में पृथ्वीराज चव्हाण से आग्रह किया गया, पर उन्होंने भी साफ इंकार कर दिया था। इसके बाद जब शरद पवार का नाम आगे आया, तब उन्हें भी हवा का अंदाजा हो गया। उन्होंने कहा कि यह में मेरा काम नहीं है। इससे साफ जाहिर हो रहा है कि यहां अबतक विकास के नाम पर सिर्फ राजनीति ही हुई है।

सातारा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के भाजपा उम्मीदवार उदयनराजे भोसले और विधानसभा उम्मीदवार शिवेंद्रराजे भोसले के लिए मोदी ने वोट मांगे, साथ ही पवार समेत उनके सहियोगी दलों पर भी तंज कसा। मोदी ने आरोप लगाते हुए कहा कि इलाके में कांग्रेस-राकांपा ने कई योजनाएं लटकाए रखी। साल 2014 की बात करें तो केन्द्र और राज्य में बीजेपी की सरकार बनने के बाद लंबित योजनाएं पूरी हो रही हैं। यहां पर्यटन के विकास की सबसे ज्यादा जरूरत है। इसलिए इसे देश के पहले 15 डेस्टिनेशन्स की सूची में लाया जाएगा।

SHARE THIS

Author:

Etiam at libero iaculis, mollis justo non, blandit augue. Vestibulum sit amet sodales est, a lacinia ex. Suspendisse vel enim sagittis, volutpat sem eget, condimentum sem.

0 coment rios: