Thursday, 15 March 2018

सरेआम व्यापारी को किया किडनैप

                              पुलिस ने ३ घंटे में व्यापारी को छुड़ाया 

उल्हासनगर (हितेश भगतानी)- उल्हासनगर शहर में बुधवार को एक दिल दहला देनेवाली घटना घटित हुई है। सरेआम व्यापारी को कुछ किडनैपरों ने किडनैप कर फिरौती की मांग की। जहां पुलिस ने व्यापारी को 3 घंटे में किडनैपरों के चंगुल से मुक्त कराया।
मिली जानकारी के अनुसार, नरेश रामनानी जो कि एक ट्रैव्हेल एजेंसी का धंधा करता है। नरेश रामनानी उल्हासनगर-2 से अपनी बाईक पर बुधवार रात करीबन 10.30 बजे जा रहा था, तभी एक सिल्वर कलर की वैगनार कार आई और उसमें से 4 लोग उतरे और नरेश रामनानी को जबरदस्ती उस कार में बैठा लिया।
एक घंटा नरेश रामनानी को घुमाने के बाद किडनैपरों ने रामनानी को कहां कि अपने भाई और अपने दोस्तों को फोन लगाओ और उनसे कहो कि जल्दी 25 लाख रुपए शहाड स्टेशन के नजदीक आए। तभी नरेश रामनानी ने अपने भाई को फोन लगाकर यह बात अपने भाई से की। रामनानी के भाई और उसके दोस्त ने तुरंत पुलिस स्टेशन में जाकर पूरी जानकारी पुलिस को बताई। तभी सीनियर पीआई पालवे ने तुरंत एक पुलिस की टीम को रामनानी को खोजने का आदेश दिया। पुलिस की टीम और क्राईम ब्रांच की टीम ने मिलकर रामनानी को खोजना शुुरु किया। तभी किडनैपरों ने फिर से फोन किया और कहां कि पैसे लेकर शहाड स्टेशन के नजदीक आ जाओ। रामनानी का भाई पुलिस के टीम के साथ शहाड स्टेशन पहुंचा। तब वहां दो किडनैपर नरेश रामनानी को लेकर आए। किडनैपरों ने पुलिस को देखकर भागने की कोशिश की। एक किडनैपर रेल की पटरी पार करके भागने में सफल हुआ और दुसरा किडनैपर कोणार्क रेसिडेंसी के सामने वाले नाले में कूद गया। कड़ी मशक्कत के बाद फायर ब्रिगेड टीम और स्थानिय रहिवासियों की मदद से किडनैपर को नाले से बाहर निकाला गया। पुलिस ने तुरंत किडनैपर को सेंट्रल हॉस्पिटल भेज दिया। सेंट्रल हॉस्पिटल में चेकअप के बाद पुलिस तुरंत किडनैपर को जांच के लिए पुलिस स्टेशन ले आई।
किडनैपर से पुछताछ करने पर उसने अपना नाम सय्यद अस्लम खान बताया, जो टाटा पावर हाऊस कल्याण में रहता है। पुलिस ने सय्यद अस्लम खान से तीन अन्य लोगों पर किडनैपिंग का मामला दर्ज कर लिया है और आगे की जांच पुलिस कर रही है। नरेश रामनानी से जब हिंदमाता मिरर की टीम ने बातचीत की तो उन्होंने बताया कि, मेरी किसी से कोई दुश्मनी नहीं है। मैं इन चारों किडनैपरों में से किसी को भी नहीं जानता हूं।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.