Friday, 8 December 2017

ब्यूटी पार्लरो पर FDA की बड़ी कार्रवाई

               49 लाख के नकली प्रोडक्ट्स हुए जप्त 
मुंबई:आज के युग में हर कोई सुंदर दिखना चाहता है चाहे वह लड़का हो या लड़की। इसी का फायदा उठाती हैं सौंदर्य प्रसाधन बेचने वाली कंपनियां और ब्यूटी पार्लर। अगर आप सौंदर्य प्रसाधन सामानों का उपयोग करते हैं या करतीं हैं तो रुक जाइये, पहले यह खबर पढ़ लीजिये। वर्ना जिन सामानों का उपयोग आप सुंदर बनने के लिए कर रहे या कर रहीं हैं उससे आप बन सकते हैं बदसूरत। बाजार में इस सौंदर्य प्रसाधन सामानों की भरमार है। क्या असली है क्या नकली इसकी पहचान करना असम्भव है। जानकारी के आभाव में ब्यूटी पार्लर भी ग्राहकों को चुना लगाते हैं।
मिली जानकारी के अनुसार FDA ने मुंबई सहित महाराष्ट्र के कई भागों में छापा मारा और जो बात सामने आई है वह चौंकाने वाली है। इस छापे में ब्यूटी पार्लर से जितने भी सामान मिले हैं सब नकली हैं जिनके लगातार उपयोग से कैंसर होने की संभावना होती है।
FDA ने छापे में जो सामान बरामद किया है उनमें नकली शैम्पू, हेयर कलर, फेश वाश, फेस मसाज, मॉइश्चराइजर क्रीम है। मजे की बात यह है कि यह सारे के सारे सामान नकली हैं और इनको ब्यूटी पार्लर वाले यूज कर रहे थे। FDA ने अपनी छापे में धारावी और विलेपार्ले इलाके से 26 लाख रूपये, पुणे से 7 लाख, नागपुर से 16 लाख सहित कुल 49 लाख का नकली सौंदर्य प्रसाधन सामान को जब्त किया है।
FDA ने बताया कि सौंदर्य प्रसाधन के यह सारे सामान अधिकतर स्लम इलाकों में तैयार किये जाते हैं। नकली उत्पादों को ब्रांडेड बोतलों में भरा जाता है या उस पर ब्रांडेड कंपनी का लेबल लगाया जाता है। यही नहीं स्लम इलाकों में बनने के कारण पुलिस को इसकी भनक भी नहीं लगती।


FDA  कमिश्नर डॉ. दराडे ने बताया कि किसी भी सौंदर्य प्रसाधन के बिक्री के लिए पहले FDA में रजिस्टर्ड करवाना पड़ता है लेकिन ये नकली सामान डायरेक्ट मार्केट में जाते हैं। दराडे ने हुए भी कड़े कानून के वकालत करते हुए कहा कि  अब इससे सम्बंधित कानून को और भी सख्त बनाया जायेगा और जल्द ही इस बारे में एक परिपत्रक निकाला जायेगा।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.