Monday, 30 October 2017

पत्नी और उसके यार ने पति को की जिंदा जलाने की कोशिश ,पुलिस ने एन.सी. लिखकर भगाया


मुंबई (इस्माइल शेख) - बोरीवली के रहने वाले ३५ वर्षीय मनोज मदन मल्हा को अपनी ही पत्नी और दोस्त से जान का खतरा है| दोनों मिलकर मनोज की पिटाई करते हैं| पिछली बार सरेआम मनोज को जिंदा जलाने की कोशिश की गई थी, मोके पर मौजूद पड़ोसियों ने उसे बचाया था| पुलिस ने एन. सी. लिखकर मनोज को भगा दिया| मनोज का कहना है कि पिछले १० सालों से मेरी बीवी काजल ने मेरे दोस्त लुकास सालवी के साथ अवैध संबंध बना रखे है| यहां तक कि इन दोनों के बीच एक लड़का भी पैदा हुआ है, जो अब चार साल का हो चुका है| मेरे ही सामने ये गंदा काम हो रहा है| दोनों मिलकर मेरा घर हड़पना चाहते हैं| बोलते हैं, यह मकान तू काजल के नाम कर और अपने बच्चों को लेकर कहीं भी निकल जा वरना तू जिंदा नहीं बचेगा| विरोध करने पर दोनों मिलकर मुझे मारते हैं| कभी हाथ तोड़ दिया, कभी पैर तोड़ दिया, कभी सरेआम जिंदा जलाने की कोशिश की गई| पर पुलिस मेरी मदद नहीं कर रही है| कई बार एन. सी लिखकर मुझे भगा दिया है| पुलिस कहती है, तेरा कुछ नहीं हो सकता तू कोर्ट में जाकर केस कर| जब कि पुलिस को सारी हकीकत पता है, पुलिस के सामने कई बार काजल यह कबूल करती है, कि लुकास सालवी से उसको चार साल का लड़का है पर मैं मनोज को एसे नहीं छोड़ सकती उसके साथ मैने पंद्रह साल निकाले हैं|
ऐसे कई मामले है जिसमें औरतों ने अपने स्वार्थ को पुरा करने के लिए उनके पतियों को धोका देते हुए अपनी गृहस्थी बर्बाद की है|
इंदौर के विकास और नेहा की शादी के तीन दिन बाद ही पति ने अपने पत्नी को किसी और के साथ देख लिया था, काफी समझाने के बाद मामला तलाक पर पहुंचा, नेहा ने तुरंत पुलिस में जाकर दहेज और घरेलू हिंसा की फर्जी रिपोर्ट दर्ज करा दीथी| पति ने गिरफ्तारी और बदनामी से डर कर एसिड पी ली थी| साल भर छटपटाता रहा, आखिर दम तोड़ दिया| सुसाइड नोट के जांच के बाद मामले पर खुलासा हुआ| बाद में पत्नी और उसके यार के खिलाफ मामला दर्ज किया गया |
ऐसे ही जलंधर के एक मामले में ३५ साल के बलविंदर कुमार उर्फ रिंकू ने अपने बेडरूम में फांसी लगाकर कर सुसाइड कर ली थी| पता तब चला जब बेटी स्कूल से घर लौटी देखा पापा ने पंखे से लटक कर आत्महत्या कर ली| १४ साल की गृहस्थी के बाद यह वारदात हुई| रिंकू की पत्नी शेखा बाजार के मल्होत्रा के यहां नौकरी करती थी वहीं मल्होत्रा के साथ शेखा का अफेयर जुड़ गया| पति को जब पता चला बदनामी और शर्म के मारे पंखे से लटक कर अपनी जान दे दी| बाद मे पुलिस ने शेखा और मल्होत्रा को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया था|
कानून के मुताबिक विवाह उस व्यवस्था को कहते हैं, जिसके भीतर जन्म लेनेवाली संतान जायज संतान कही जाती है| जाहिर है कि जब विवाह को संतान के जन्म से जोड़कर ही परिभाषित किया गया है| तो इसमें पति पत्नी के बीच का दैहिक रिश्ता ही है, जो उन्हें दंपति बनाता है|
पर यहा तो सारी हदें पार हो चुकी हैं, मामला जान पर बन आया है| बता दें कि मनोज बोरिवली पश्चिम, गांधीनगर, एक्सर डोंगरी का रहने वाला है| काजल से २००४ में इसकी शादी हुई थी|मनोज को दो लड़के और एक लड़की है| जिनकी उम्र १२ से ९ साल के बीच है| लुकास सालवी मनोज का दोस्त हुआ करता था, जो घर आते जाते काजल से संबंध बनाए बैठा| तभी से पति पत्नी में झगड़े शुरू हो गए, यहा तक की इन दोनों के बीच काजल का चैथा बच्चा हो गया| लुकास सालवी पास के झोपड़पट्टी में रहता है और किसी हॉटेल के सामने वाचमैनी का काम करता है| मनोज का आरोप है कि काजल और लुकास मिलकर मनोज का घर हड़पने के लिए उसे प्रताड़ित कर रहे हैं| यहां तक कि उसकी जान लेने की भी कोशिश की जा रही है| मनोज की मां इन से अलग रहती है| उसका कहना है कि मेरा एक ही बेटा है, जिसकी जिंदगी बर्बाद हो गई है, अगर काजल अपने यार के साथ चली भी जाती है तो कोई गम नहीं है| हम मां बेटे मिलकर कैसे भी बच्चों को पाल लेंगे | पर मुझे डर है कही दोनों मिलकर मेरे बेटे की जान ना ले ले |
वही पड़ोस में रहने वाली निर्मला कूचेकर, इंदू कुरे, रेश्मा नटे, मिना कूचेकर, मुन्नी शेख, सिराज पटेल, मेहराज पटेल ने बताया, हमारे सामने मनोज को जिंदा जलाने की कोशिश की गई थी| हम सभी ने मिलकर उसे बचाया| आए दिन काजल और उसके यार के बेशर्मी और मार पीट से हम सब परेशान हैं| काजल खुद दुसरे आदमी से संबंध रखती है और अपने ही आदमी को पिटवाती है| ऐसे माहौल में हमारे बच्चों की परवरिश के लिए हम खतरा महसूस करते हैं| पुलिस को मनोज की मदत करनी चाहिए, पर कुछ नहीं कर रही हैं|
बोरीवली पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक गुणाजी सदाशिव सावंत से जब इस बारे में पुछा गया तो उन्होनें कहा कि इस मामले में हमने पाया कि महिला का कैरेक्टर और डिमांड सही नहीं है, जो भी कानूनी कार्रवाई हो सकती है, हम जरूर करेंगे| फिल्हाल मामले की जांच की जा रही है|

SHARE THIS

Author:

Etiam at libero iaculis, mollis justo non, blandit augue. Vestibulum sit amet sodales est, a lacinia ex. Suspendisse vel enim sagittis, volutpat sem eget, condimentum sem.

0 coment rios: