Thursday, 6 July 2017

नकली पुलिसवाला बनकर सोनार को लगाया १० लाख का चूना

 
कल्याण (सी.वी.निर्मल)-नकली पुलिसवाला बनकर एक सोनार को लाखो का चूना लगाकर चेक देकर सालों इधर उधर घुमाने का मामला प्रकाश में आया है|कई महीनों बीतने के बाद पीड़ित दुकानदार को बात समझ में आ गई कि पुलिस वाला उसे चूना लगा रहा है| इस बात की शिकायत उसने मानपाड़ा पुलिस में की| सोनार को ठगनेवाले व्यक्ति को पुलिस ने गिरफ्तार कर हवालात में पहुँचा दिया है | जानकारी के तहत मुंबई के घाटकोपर निवासी व्यापारी सवई सिंग बोराणा की डोंबिवली पुर्व के दावड़ी गॉंव में तुकाराम चौक पर धनलक्ष्मी ज्वेलर्स नामक सोने चांदी की दुकान है| पिछले वर्ष अगस्त महीने में मिलिंद उर्फ़ पवन सावंत नामक व्यक्ति उनके दुकान में खाकी कलर का पेंट तथा पुलिस जैसा जूता पहनकर दूकान में आया और दुकानदार सवई से कहा कि वह मुंबई में पुलिस के पद पर कार्यरत है|उसने दुकानदार से कहा मुझे अपने वरिष्ठ और कनिष्ठ अधिकारियों को सोने के जेवरात भेंट में देने हैं | इस तरह की बातें कर मिलिंद ने उनके दुकान से ९ लाख ७० हजार रुपए के गहने खरीद लिए और पैसे देने के बदले उसने दुकानदार को अपना एक चेक दे दिया| उस चेक को कुछ दिनों बाद बैंक में डालने को कहा उसके बताए अनुसार दुकानदार सवई ने कुछ दिनों के बाद चेक अपने बैंक खाते में डाला, पर वह चेक बाउंस हो गया| तब सवई ने मिलिंद से संपर्क कर इस बात की जानकारी दी तो मिलिंद ने मुंबई एयरपोर्ट पर पैसे देने के लिए बुलाया| रातभर इंतजार करवाने के बावजूद मिलिंद वहां पर नहीं पहुंचा, फिर जब दुकानदार ने उससे ना आने का कारण पूछा तो उसने बंदोबस्त में ड्यूटी लगने की बातें कर उसे टाल दिया| इसी तरह कई बार दुकानदार को अलग-अलग जगहों पर बुलाया ,धीरे धीरे एक वर्ष बीत गया उसके बावजूद दुकानदार को उसके पैसे नहीं मिले| तब दुकानदार ने मानपाड़ा पुलिस स्टेशन में आरोपी मिलिंद के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई| दुकानदार की शिकायत के आधार पर व सीसीटीवी फुटेज से मिले युवक मिलिंद के फोटो के आधार पर पुलिस ने उसकी खोजबीन करते हुए उसे बुधवार की सुबह गिरफ्तार कर हवालात में पहुंचा दिया| पुलिस ने बताया कि खुद को पुलिस वाला कहने वाला युवक मिलिंद असल में एक शातिर ठग है वह नकली पुलिस बनकर लोगों को चूना लगाता है| फिलहाल अब उससे पुलिस यह जानने में जुटी हुई है कि उसने अब तक कितने लोगों को अपना शिकार बनाया है |

SHARE THIS

Author:

Etiam at libero iaculis, mollis justo non, blandit augue. Vestibulum sit amet sodales est, a lacinia ex. Suspendisse vel enim sagittis, volutpat sem eget, condimentum sem.

0 coment rios: