नॉर्थ कोरिया की दुश्मन देश पर हमले की तैयारी, सीक्रेट टनल्स का खुला राज

इंटरनेशनल डेस्क.साउथ कोरिया की आर्मी ने नॉर्थ कोरिया की ओर से आने वाली चार खूफिया सुरंगों का पता लगाने का दावा किया है। आर्मी का यह भी दावा है कि ये सुरंगे इस तरह से डिजाइन की गई हैं कि इनमें से सिर्फ 1 घंटे में ही 30 हजार आर्मी के जवान देश में दाखिल हो सकते हैं।आर्मी की बख्तरबंद गाड़ियां भी गुजर सकती हैं इन सुरंग से...

- इनमें से एक टनल 83 मीटर लंबी है, जिसमें पानी के पाइप लाइन की भी व्यवस्था है।
- इसके साथ ही टनल में लाइट का भी इंतजाम है, जिससे कि आर्मी के जवान रात में भी साउथ कोरिया में घुस सकें।
- टनल्स की डिजाइन भी इस तरह की गई है कि इसमें से बख्तरबंद गाड़ियां भी गुजर सकती हैं।
- अन्य तीन टनल्स की डिजाइन देखकर लगता है कि इन्हें कुछ समय पहले ही तैयार किया गया है।
- इसमें वॉटर, इलेक्ट्रिसिटी, वेपन्स स्टोरेज से लेकर आर्मी के जवानों के लिए सोने तक की व्यवस्था है।
- साउथ कोरिया के बॉर्डर ऑफिसर का दावा है कि देश की सीमा से लगी ऐसी 16 और टनल्स हैं, जिनकी तलाश की जा रही हैं।
जंग की तैयारी कर रहा है नॉर्थ कोरिया..
- साउथ कोरियाई सेना के अफसरों का दावा है कि नॉर्थ कोरिया उनके देश पर हमले की तैयारी कर रहा है।
- इसीलिए इन टनल्स का निर्माण करवाया गया, जिससे साउथ कोरिया में बड़े हमले को अंजाम दिया जा सके।
- हाल ही में नॉर्थ कोरिया ने पांचवां परमाणु परीक्षण किया, जिसके चलते उस पर नए प्रतिबंध लगा दिए गए हैं। 
- नए प्रतिबंध के अंतर्गत उत्तर कोरिया से निर्यात होने वाली चीजों पर बैन लगा दिया गया है। इससे उसे काफी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ेगा। 
- नॉर्थ कोरिया और साउथ कोरिया के बीच पिछले काफी समय से तनाव का माहौल है। नॉर्थ कोरिया का तनाशाह किम-जोंग उन साउथ कोरिया पर परमाणु हमले की धमकी दे चुका है।
इससे पहले भी मिल चुकी हैं टनल्स
- इससे पहले 700 मीटर लंबी टनल का 20 नवंबर, 1974 में पता लगाया गया था। 
- नॉर्थ कोरिया से आने वाली ऐसी ही एक टनल 17 अक्टूबर 1978 में मिली थी, जो 1,653 फीट लंबी थी।
- हाल ही में नॉर्थ कोरिया के मिसाइल परीक्षण से दोनों देशों के बीच तनाव की स्थिति है। इसके चलते बॉर्डर पर आर्मी की गतिविधियां बढ़ी हुई हैं।
- इन टनल्स के मिलने के बाद साउथ कोरियन आर्मी ने बॉर्डर पर अन्य टनल्स को तलाश करने का काम तेज कर दिया है।


Post a comment

[blogger]

hindmata mirror

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget