नोटबंदी में साइबर क्राइम का अंदेशा, सतर्क रहें





बैंकाें और एटीएम में कैश की समस्या के चलते उपभोक्ताओं से एटीएम बंद या खराब होने संबंधी पूछताछ के लिए फर्जी कॉल या मैसेज सकता है। बदमाश और शातिर ठग आपसे कार्ड का पिन नंबर और बैंक अकाउंट डिटेल पूछ सकते हैं और कार्ड के क्लोन के माध्यम से फ्रॉड कर सकते हैं। वहीं ऑनलाइन शॉपिंग के तहत फ्रॉड रजिस्टर्ड नंबर पर आए ओटीपी की जानकारी भी लोगों से ले सकते हैं। जबकि बैंक किसी भी ग्राहक को फोन पर एटीएम बंद होने की धमकी या पिन ब्लॉक या ओटीपी संबंधी जानकारी नहीं लेता है। आप किसी को भी एटीएम पिन,ओटीपी या बैंक अकाउंट की डिटेल बताएं।





ट्रांजेक्शन करते समय पिन का रखें ध्यान

एटीएममें पर एक समय में 8 से 10 लोग रहेंगे ऐसे में जब कस्टमर एटीएम का पिन डालता है तो वहां मौजूद लोगों में कोई शातिर भी हो सकता है। जो आपका पिन और कार्ड की कुछ डिजिट जान साइबर फ्रॉड कर सकता है। मैनेजर ज्योति नाथ कहती हैं कि ट्रांजेक्शन के दौरान पिन को छुपाने की कोशिश करें।

अन्यके अकाउंट में नहीं कराएं पैसा जमा

लोगकई तरह के जुगाड़ करने में लगे हैं। ऐसे में विभिन्न बैंकों में अकाउंट और ज्यादा मात्रा में कैश निकालने के चलते लोग एक-दूसरे के बैंक अकाउंट में पैसा जमा कराने की चर्चा कर रहे हैं। ऐसे में किसी पर भी भरोसा कर अकाउंट से पैसा जमा कराने से लोगों को नुकसान भी हो सकता है।

real estate contact management software

सिटी रिपोर्टर|उदयपुर

नोटबंदीकेदौरान साइबर क्राइम से जुड़े कई शातिर लोग इस नाजुक मौके का फायदा उठा सकते हैं। बैंक अधिकारियों ने लोगों से सतर्कता बरतने की अपील की है। एसबीबीजे ट्रेजरी ब्रांच प्रबंधक ब्रजकिशोर कहते हैं कि सभी जगह नोट की किल्लत है,सरकार और बैंक लोगों को अच्छी से अच्छी सुविधा प्रदान करने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे समय में लोगों को संयम और सतर्कता रखने की आवश्यकता है। जल्दबाजी के चक्कर में लोगों को अपने अमूल्य पैसे से हाथ धोना पड़ सकता है।

Post a comment

[blogger]

hindmata mirror

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget