500-1000 नोट बैन पर, पीएम मोदी की हुई विजय! सबसे बड़ी ताकत ने टेके घुटने…

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 के नोट बैन क्या किए, दुनिया की सबसे बड़ी ताकत यानी गूगल ने भी उनके आगे घुटने टेक दिए। पीएम मोदी के इस फैसले से देश के अमीर सदमे में चले गए। ब्‍लैक मनी रखने वालों और टैक्स बचाने वालों को कुछ सूझ ही नहीं रहा था, जिसके कारण उन्‍होंने गूगल का सहारा लिया।

यही वजह रही कि भारत
में 48 घंटों के अंदर गूगल पर सबसे अधिक सर्च ‘हाउ टू कनवर्ट ब्लैक मनी इनटू व्हाइट मनी’ (काले धन को सफेद धन में कैसे बदलें) किया गया। हालांकि पीएम मोदी की रणनीति के आगे गूगल ने भी घुटने टेक दिए और कोई भी नया तरीका नहीं सुझा पाया।
आंकड़ेे जानकर आप हैरान हो जाएंगे कि पीएम मोदी के गृह राज्य गुजरात में काले धन को सफेद बनाने पर सर्च सबसे अधिक की गयी है। जबकि महाराष्ट्र और हरियाणा का नंबर इसके बाद आता है। दरअसल बाजार में 1000 और 500 की करेंसी का हिस्सा 86 प्रतिशत है।

वित्त मंत्री ने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा है कि यह फैसला पूरे समाज बदलेगा। जिस तरह लोग पैसे को रखते हैं और खर्च करते हैं, वह सब बदल जाएगा। ईमानदार लोग खुश होंगे और कालाधन रखने वाले परेशान। उनके अनुसार इस समय भारतीय बैंकों में मौज़ूद करीब 23 बिलियन नोटों को हटाया गया है।

इस समय गूगल ट्रेंड के बारे में बात करें तो ‘हाउ टू कनवर्ट ब्लैक मनी’ (काले धन को सफेद कैसे करें) को लोगों ने सबसे ज्यादा सर्च किया। हरियाणा इस लिस्ट में टॉप पर है और इससे थोड़ा पीछे गुजरात है।

इसके बाद इसी सवाल के लिए सबसे ज्यादा सर्च पंजाब में किया गया है। पंजाब में अगले साल चुनाव होने हैं और इसके बाद राजधानी दिल्ली का नंबर आता है। चुनाव के समय वोटरों को लुभाने के लिए नगदी अधिकतर देखी जाती है। यही वजह है कि भारी मात्रा में धन संचित कर रखा था।

सूत्रों के मुताबिक अब सरकार उन लोगों पर भी नजर रख रही है जो गूगल और अन्‍य जगहों से काले धन को सफेद करने की जानकारी एकत्र कर रही है। समय आने पर इन लोगों के खिलाफ भी एक्‍शन  लिया जा सकता है। दरअसल इस क्रम में साइबर दुनिया पर भी नजर रखी जा रही है और जो भी इंटरनेट का अधिक इस्‍तेमाल करके ऐसी सर्च कर रहा है उनके आईपी नम्‍बर के जरिए यह ट्रेस कर लिया जाएगा कि किस सिस्‍टम से कितनी बार और कहां से यह जानकारी सर्च की गयी है।

Post a comment

[blogger]

hindmata mirror

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget