View Allmumbai

उल्हासनगर

ठाणे

Latest News

Wednesday, 28 September 2022

Maharashtra: स्कूलों में देवी सरस्वती की फोटो पर भुजबल ने उठाए सवाल, शिंदे-फडणवीस ने दी तीखी प्रतिक्रिया


राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के वरिष्ठ नेता छगन भुजबल ने महाराष्ट्र के स्कूलों में देवी सरस्वती की तस्वीरों के प्रदर्शन पर सवाल उठाए हैं। वहीं राज्य के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है और कहा है कि देवी की तस्वीरों को नहीं हटाया जाएगा क्योंकि वह ज्ञान की देवी हैं। 


छगन  भुजबल  ने कही थी ये बात

दरअसल,  भुजबल ने इसी सप्ताह मुंबई में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मांग की थी कि स्कूलों में सावित्री बाई फुले, ज्योतिबा फुले, शाहू महाराज, भाऊराव पाटिल और भीमराव अंबेडकर जैसे समाज सुधारकों के चित्र प्रदर्शित किए जाएं। 


तीन फीसदी लोगों ने हमें शिक्षा से दूर रखा : ओबीसी नेता

राकांपा नेता ने कहा था, इन समाज सुधारकों के बजाय स्कूलों में देवी सरस्वती और शारदा के चित्रों को प्रदर्शित किया जाता है। हमने उन्हें देखा भी नहीं है और उन्होंने हमें कुछ सिखाया भी नहीं है। उन्होंने आगे कहा था कि तीन फीसदी लोगों ने हमें शिक्षा से दूर रखा है। हम उनके सामने प्रार्थना क्यों करें?


मुख्यमंत्री बोले- नहीं हटाई जाएगी कोई तस्वीर

पूर्व मंत्री के बयान पर शिंदे और फडणवीस दोनों ने कहा कि स्कूलों से देवी के चित्र नहीं हटाए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने नासिक में संवाददाताओं से कहा- "कोई तस्वीर नहीं हटाई जाएगी। कुछ लोग (भुजगल) कुछ भी महसूस कर सकते हैं। हम उनकी मर्जी के हिसाब कुछ भी नहीं करेंगे। आम लोग जो चाहेंगे, वो करेंगे।" 


ज्ञान की देवी हैं सरस्वती - उपमुख्यमंत्री फडणवीस

वहीं उपमुख्यमंत्री ने कहा- "देवी सरस्वती ज्ञान की देवी हैं। जो हमारी संस्कृति और हिंदुत्व को स्वीकार नहीं करते, वे ऐसे बयान देते हैं।" फडणवीस ने कहा कि स्कूलों में राष्ट्रीय प्रतीकों के चित्र लगाए जा सकते हैं लेकिन देवी सरस्वती की तस्वीरें नहीं हटाई जाएंगी। इस बीच, नासिक में ओबीसी नेता भुजगल के आवास के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी गई है।


मुंबई एयरपोर्ट से करोड़ों का सोना बरामद, खोला चॉक्लेट का पैकेट निकला सोना

Mumbai : मुंबई कस्टम विभाग ने छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयरपोर्ट में बड़ी कार्रवाई करते हुए आधा किलो सोना जब्त किया है. जब्त किए गए सोने की कीमत 1 करोड़ से ज्यादा है. कस्टम अधिकारियों ने इस मामले में कुछ 1 आदमी को पकड़ा है. गोल्ड की स्मगलिंग करने वाले इन विदेशी नागरिक को अरेस्ट कर लिया गया है.


मुंबई एयरपोर्ट पर कस्टम विभाग के अधिकारियों ने पहले एक यात्री की तलाशी ली. इस तलाशी में सोने को टुकड़ों काटकर चॉकलेट और टॉफी के पैकट में लपेटा गया था, बैग में इसे शर्ट के बीच छिपाया गया था. सोना छिपाए जाने की बात का पता चला. इसके बाद कस्टम विभाग ने पूछताछ के बाद इस आदमी को अरेस्ट कर लिया गया.


कस्टम अधिकारियों ने सोना जब्त कर लिया है. कस्टम विभाग द्वारा दी गई जानकारियों के मुताबिक विदेशी नागरिक ने एक खास तरह की शर्ट बैग में रखी हुई थी. इस शर्ट की अलग बनावट होने की वजह से अधिकारियों को शक हुआ. शक के आधार पर तलाशी ली गई तो शर्ट में सोना छिपाए जाने की बात का पता चला. सोने का वजन किया गया तो आधा किलो सोना पाया गया.

मैं वंशवाद का प्रतीक, मोदीजी भी खत्म नहीं कर सकते... पंकजा मुंडे का पूरा बयान क्या है, जिस पर मचा है हंगामा

मुंबई: बीजेपी की राष्ट्रीय सचिव पंकजा मुंडे (Pankaja Munde) के भाषण को लेकर घमासान मचा हुआ है। दरअसल पंकजा का भाषण वायरल है क‍ि ज‍िसमें वह मंच से कह रही हैं क‍ि मोदी जी भी करियर खत्म नहीं कर सकते'। यह भाषण प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन कार्यक्रम बताया जा रहा है। हालांक‍ि पंकजा मुंडे से भाषण को तोड़-मरोड़ कर पेश करने का आरोप लगाया है। बुधवार को अपना पूरा भाषण ट्विटर पर शेयर करते हुए पंकजा मुंडे ने कहा क‍ि मेरे शब्दों को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया है। मेरे भाषण के आगे और पीछे की लाइनों पर भी गौर करना चाहिए।


पंकजा मुंडे की ओर से ट्विटर पर भाषण की पूरी रिकॉर्डिंग अपलोड है। इसमें पंकजा मुंडे ने कहा था कि मोदी जी के कार्यक्रम के निमित आप लोग यहां आए हैं। हम लोग चुनाव पद्धति में कुछ बदलाव करने का प्रयास करेंगे। यह चुनाव पुराने तरीके पर न लड़ते हुए किसी अलग विषय पर लड़ेंगे। मतलब यहां जो युवक-युवतियां हैं वो जातपात, पैसा-पावर इनसब से दूर होकर लड़े।


आगे पंकजा मुंडे ने कहा क‍ि मोदी जी को वंशवाद की राजनीति खत्म करनी है। मैं भी वंशवाद का प्रतीक हूं। मुझे कोई खत्म नहीं कर सकता। मतलब मोदी जी ने भी अगर सोचा तो भी शक नहीं कर सकते। जब तक आपके मन में हम हैं तब तक। अगर हमने आपके जीवन में कोई अच्छा काम या बदलाव किया तो आप भी हमें नहीं बदलेंगे। सबसे महत्वपूर्ण बात है अपनी राजनीति में स्वच्छता पारदर्शिता लानी चाहिए। क्योंकि राजनीति में ही सभी बड़े निर्णय होते हैं। यहां बैठे बच्चों को अच्छा भविष्य दिलाने के लिए राजनीति में बदलाव करने होंगे।


कौन हैं पंकजा मुंडे

26 जुलाई 1979 को महाराष्ट्र के परली में जन्मी पंकजा मुंडे बीजेपी के धाकड़ नेता रहे गोपीनाथ मुंडे की पुत्री और स्वर्गीय प्रमोद महाजन की भतीजी हैं। 40 साल की उम्र में पंकजा मुंडे ने समाजसेवा से लेकर राजनीति तक अहम पड़ाव तय किया। पंकजा ने अक्टूबर 2014 में महाराष्ट्र कैबिनेट मंत्री के रूप में तौर पर नामित किया गया। वे परली से विधायिका रही है। हालांक‍ि प‍िछले इलेक्‍शन में अपने चचरे भाई धनंजय मुंडे से विधान सभा में हार का सामना करनी पड़ा था। पंकजा मुंडे इस समय बीजेपी की राष्‍ट्रीय सच‍िव हैं।


New Delhi: प्रधानमंत्री ने लता मंगेशकर की जयंती पर उन्हें याद किया


नयी दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने बुधवार को सुर साम्राज्ञी लता मंगेशकर की जयंती पर उन्हें याद किया और कहा कि उन्हें खुशी है कि उत्तर प्रदेश के अयोध्या में उनकी स्मृति में एक चौक का नामकरण किया जा रहा है।


लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) का जन्म 28 सितंबर 1929 को इंदौर में मशहूर संगीतकार दीनानाथ मंगेशकर के यहां हुआ था।


मोदी ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘लता दीदी की जयंती पर आज उन्हें याद कर रहा हूं। याद करने को बहुत कुछ है… कई ऐसे संवाद हैं जिनमें उन्होंने मुझ पर अपना प्यार बरसाया।’’


उन्होंने कहा, ‘‘मुझे खुशी है कि आज उनकी स्मृति में अयोध्या में एक चौक का नामकरण किया जाएगा। देश की महान हस्तियों में एक लता दीदी को यह उचित श्रद्धांजलि होगी।’’


‘‘भारत रत्न’’ लता ने अपनी आवाज और अपनी सुर साधना से बहुत छोटी उम्र में ही गायन में महारत हासिल की और विभिन्न भाषाओं में गीत गाए। पिछली पीढ़ी ने जहां लता की शोख और रूमानी आवाज का लुत्फ उठाया, वहीं मौजूदा पीढ़ी उनकी समन्दर की तरह ठहरी हुई परिपक्व गायकी को सुनते हुए बड़ी हुई है।


प्रधानमंत्री मोदी अयोध्या में लता मंगेशकर की स्मृति में एक चौक का डिजिटल माध्यम से उद्घाटन करेंगे। सरयू नदी के तट पर स्थित नया घाट क्षेत्र को 7.9 करोड़ रुपये के अनुमानित बजट से लता मंगेशकर चौक विकसित किया गया है।


संबंधित जगह का मुख्य आकर्षण यह है कि वहां भारतीय संगीत वाद्ययंत्र ‘वीणा’ स्थापित किया गया है जिसका वजन 14 टन, लंबाई 40 फुट और ऊंचाई 12 मीटर है।

असम पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, कछार में 160 करोड़ रुपए की ड्रग्स जब्त; 6 गिरफ्तार

Assam: असम पुलिस ने मंगलवार रात कछार जिले से 160 करोड़ रुपए मूल्य के मादक पदार्थ की एक बड़ी खेप जब्त की और साथ ही मादक पदार्थ रखने वाले छह लोगों को गिरफ्तार किया है। आईएएनएस की रिपोर्ट के अनुसार पुलिस (Police) ने कल रात सिलचर-आइजोल राष्ट्रीय राजमार्ग पर मिजोरम से असम आ रहे एक वाहन से याबा टैबलेट बरामद किया।


कछार में 160 करोड़ रुपए की ड्रग्स जब्त

कछार (Cachar) के एसपी नुमाल महतो ने बताया कि एक यात्री वाहन में बड़ी मात्रा में नशीले पदार्थ लाए जाने की सूचना पर कार्रवाई करते हुए कछार पुलिस ने एक अभियान शुरू किया और सिलचर-आइजोल राष्ट्रीय राजमार्ग पर सभी वाहनों की जांच की जो मिजोरम से असम की ओर आ रहे थे।


वाहन जांच के दौरान एक वाहन को रोका गया और उसकी जांच करने पर पुलिस टीम को नशीले पदार्थ ले जाने के लिए कई सीक्रेट चैंबर्स मिले। एसपी महतो ने कहा कि पुलिस को वाहन से सभी नशीले पदार्थों (Drugs) को बरामद करने में काफी समय लगा। हमारे अनुमान के मुताबिक याबा टैबलेट की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में लगभग 160 करोड़ रुपए होनी चाहिए।


असम पुलिस6 को किया गिरफ्तार

साथ ही पुलिस ने वाहन पर सवार एक महिला और एक बच्चे समेत छह लोगों को गिरफ्तार कर मामला दर्ज किया है। वहीं ड्रग्स के सोर्स के बारे में बात करते हुए एसपी ने कहा कि हो सकता है कि प्रतिबंधित पदार्थ भारत-म्यांमार सीमा से मिजोरम लाए गए हों, हालांकि वास्तविक स्थान का तुरंत पता नहीं चल सका है।

Insurance Scheme में निवेश करने से पहले हो जाएं सावधान, मुंबई में लुभावना आफर देकर महिला के साथ 26 लाख रुपये की ठगी


मुंबई: महाराष्‍ट्र (Maharashtra) के ठाणे जिले (Thane) में एक 58 साल की महिला को अधिक लाभ कमाने का लालच देकर बीमा योजना (Insurance Scheme) में निवेश करने के लिए कहा गया था और इस चक्‍कर में उन्‍होंने अपने 26 लाख रुपये गंवा दिए। पुलिस ने बुधवार को यह जानकारी दी। 


मंगलवार को दर्ज महिला की शिकायत के आधार पर विठ्ठलवाड़ी पुलिस (Vithalwadi police) ने दो लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है। साल 2020 में सरकारी नौकरी से रिटायर होने के बाद महिला फिक्‍स्‍ड डिपोडिट (Fixed Deposit) में निवेश करने के नाते एक राष्‍ट्रीयकृत बैंक (Nationalised Bank) गई थी। 


महिला को 38 लाख रुपये रिटर्न का दिया गया लालच

शिकायत का हवाला देते हुए एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि इस दौरान बैंक के एक कर्मचारी ने महिला को एक लुभावने प्राइवेट इंश्‍योरेंस स्‍कीम के बारे में बताया, जिसमें पांच साल के लिए पांच-पांच लाख रुपये का निवेश करना था जिसके बदले उन्‍हें दस साल के बाद 38 लाख रुपये की बड़ी रकम मिलने की बात कही गई थी। 


महिला ने दो साल तक ऐसा किया लेकिन बाद में उन्‍होंने पाया कि स्‍कीम के आनलाइन दस्‍तावेजों से 38 लाख रुपये वाला हिस्‍सा गायब हो गया है। उन्‍हें यह बात कुछ ठीक नहीं लगी तो उन्‍होंने पालिसी को बीच में ही रोक दिया। 


पैसा वापस दिलाने के नाम पर भी फरेब

महिला ने बीमा कंपनी के साथ संपर्क किया, जहां एक अधिकारी ने महिला को एक दूसरे व्‍यक्ति से मिलवाया और कहा कि वह बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (IRDA) की तरफ से है। 


पुलिस ने बताया, इस शख्‍स ने एक दूसरे आरोपी के साथ मिलकर महिला को झूठा दिलाया कि वे पैसे दिलाने में उनकी मदद करेंगे। इस दरमियान महिला से अक्‍टूबर, 2021 से फरवरी, 2022 के बीच किए गए भुगतान के बारे में पूछा गया, जो करीब 26,66,137 लाख रुपये थी। 


थक-हारकर पुलिस के पास पहुंची महिला

बाद में पैसे वापस नहीं मिलने पर महिला ने खुद IRDA के साथ संपर्क किया, वहां उन्‍हें बताया कि इस नाम का कोई व्‍यक्ति उनके साथ काम ही नहीं करता है। इसके बाद महिला ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई, जिसके आधार पर पुलिस ने दो आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया। हालांकि, इस मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

दुर्घटनाग्रस्त होन से बची मुंबई मेल: पीडीडीयू नगर में टूटी पटरी देख सुपरवाइजर ने शोर मचाकर रुकवाई ट्रेन


पंडित दीनदयाल उपाध्याय (पीडीडीयू नगर) जंक्शन के पश्चिमी छोर पर बुधवार सुबह हावड़ा-मुंबई मेल हादसे का शिकार होने से बाल-बाल बच गई। ट्रेन जिस पटरी से गुजर रही थी वो आगे टूटी हुई थी। जिसे देख सीआईएस के सुपरवाइजर ने शोर मचाकर और पटरी पर दौड़ लगाकर ट्रेन को रुकवाया।


इसके बाद मौके पर पहुंचे रेल कर्मचारियों ने आधे घंटे के प्रयास के बाद पटरी को मरम्मत कर ट्रेन को आगे के लिए रवाना कराया। इसके बाद विभागीय कर्मचारियों ने राहत की सांस ली।  हावड़ा से सीएसटी (छत्रपति शिवाजी टर्मिनस) जा रही अप मुंबई मेल बुधवार सुबह 10 बजकर 31 मिनट पर पीडीडीयू जंक्शन के प्लेटफार्म संख्या सात पर पहुंची।


निर्धारित ठहराव के बाद ट्रेन 10.40 बजे वेस्ट केबिन के समीप पहुंची थी। इसी बीच सुपरवाइजर आशुतोष चौबे की नजर टूटी पटरी पर पड़ी तो उन्होंने शोर मचाया। पटरी पर दौड़ते हुए ट्रेन चालक को हाथ देकर रुकने का इशारा किया। ट्रेन रोक कर चालक ने देखा तो टूटी पटरी देख कर उसके भी होश उड़ गए।


कंट्रोल की सूचना पर आनन फानन विभागीय कर्मचारियों और अधिकारियों की टीम पहुंच गई। आधा घंटे के प्रयास के बाद पटरी की मरम्मत की गई। इसके बाद अधिकारियों ने राहत की सांस ली। इसके बाद ट्रेन को आगे के लिए रवाना किया गया। इस दौरान आधे घंटे तक अप लाइन पर ट्रेनों का आवागमन बाधित रहा।